Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2016 · 1 min read

कली बुझी बुझी हुई गुलों में ताज़गी नहीं

कली बुझी बुझी हुई गुलों में ताज़गी नहीं
सभी बहुत उदास हैं नसीब में ख़ुशी नहीं

बहार वादियों से छीन ले गई है ख़ुश्बुएं
चमन परस्त बागवाँ की नींद पर खुली नहीं

हमें भी देख एक दिन तो सरहदों पे भेज कर
उबल रहा लहू जिगर में आग़ कम लगी नहीं

जो कर सका पलट के पत्थरों से वार कर गया
निगाह खोजबीन की उधर कभी उठी नहीं

हजार बार बात ये कही गई सुनी गई
महज हो एक वोट तुम कहीं से आदमी नहीं

तुम्हें यकीन ही कहाँ मेरे किसी सबूत पर
उसी पे मर मिटे किसी का जो हुआ कभी नहीं

राकेश दुबे “गुलशन”
15/07/2016
बरेली

1 Comment · 296 Views
You may also like:
आया सावन ओ साजन
Anamika Singh
गीत
Shiva Awasthi
नदिया रोये....
Ashok deep
स्वाबलंबन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"अंतिम-सत्य..!"
Prabhudayal Raniwal
*जीवन का सार (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
Daily Writing Challenge : New Beginning
Mukesh Kumar Badgaiyan,
देख लूं तुमको।
Taj Mohammad
रचो महोत्सव
लक्ष्मी सिंह
मुहब्बत भी क्या है
shabina. Naaz
इश्क
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ऐसे काम काय करत हो
मानक लाल"मनु"
बाढ़ और इंसान।
Buddha Prakash
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
गणतंत्र पर्व
Satish Srijan
"चित्रांश"
पंकज कुमार कर्ण
गरीबी का चेहरा
Dr fauzia Naseem shad
✍️न जाने वो कौन से गुनाहों की सज़ा दे रहा...
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
क़ुसूरवार
Shyam Sundar Subramanian
Writing Challenge- सम्मान (Respect)
Sahityapedia
द्रौपदी मुर्मू'
Seema 'Tu hai na'
काँच सा नाजुक मेरा दिल इस तरह टूटा बिखरकर
Dr Archana Gupta
सरकार और नेता कैसे होने चाहिए
Ram Krishan Rastogi
“ अभिव्यक्ति क स्वतंत्रता केँ पूर्वाग्रसित सँ अलंकृत जुनि करू...
DrLakshman Jha Parimal
जनतंत्र में
gurudeenverma198
✍️राजू ये कैसी अदाकारी..?
'अशांत' शेखर
बुंदेली हाइकु- (राजीव नामदेव राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चंदा की डोली उठी
Shekhar Chandra Mitra
न थी ।
Rj Anand Prajapati
हर घर तिरंगा
अश्विनी कुमार
Loading...