Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Apr 2017 · 1 min read

कलाम-ऐ-दर्द (ग़ज़ल )

कलाम-ऐ-दर्द
कितनी शिद्दत से करते हैं तुमसे प्यार,
हल-ऐ-दिल अपना बयाँ कर सकते नहीं।

दिल का हर ज़ख्म हमारा बन गया नासूर,
मगर आह भी हाय! हम भर सकते नहीं।

रोते तो हैं लेकिन चुपके-चुपके तन्हाई में,
रुसवाई के सबब महफ़िल में रो सकते नहीं।

तुम्हारी यादों का मौसम तो आता-जाता है,
तुम्हारी तस्वीर के सिवा कहीं बहल सकते नहीं।

तुमसे मुलाक़ात और दीदार की आरजू में,
करेंगे कयामत तक इंतज़ार ,यूँ मर सकते नहीं।

मेरी हस्ती मेरी ना रहिये ज़रा गौर कीजिये,
यह है एक मजार,जिंदगी इसे बना सकते नहीं।

ग़ज़ल गर छेड़नी है तो दर्द भी लाज़मी है ,
यूँ तो हम शायर भी कहला सकते नहीं।

1 Like · 279 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
भारत की है शान तिरंगा
भारत की है शान तिरंगा
surenderpal vaidya
मन का आंगन
मन का आंगन
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
संस्कारों की पाठशाला
संस्कारों की पाठशाला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
// श्री राम मंत्र //
// श्री राम मंत्र //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हम बात अपनी सादगी से ही रखें ,शालीनता और शिष्टता कलम में हम
हम बात अपनी सादगी से ही रखें ,शालीनता और शिष्टता कलम में हम
DrLakshman Jha Parimal
तुम्हारा दूर जाना भी
तुम्हारा दूर जाना भी
Dr fauzia Naseem shad
अनुराग
अनुराग
Bodhisatva kastooriya
तो मेरा नाम नही//
तो मेरा नाम नही//
गुप्तरत्न
Mere shaksiyat  ki kitab se ab ,
Mere shaksiyat ki kitab se ab ,
Sakshi Tripathi
सुख दुख
सुख दुख
Sûrëkhâ
आतंकवाद को जड़ से मिटा दो
आतंकवाद को जड़ से मिटा दो
gurudeenverma198
ओ मेरे गणपति महेश
ओ मेरे गणपति महेश
Swami Ganganiya
*तपती धूप सता रही, माँ बच्चे के साथ (कुंडलिया)*
*तपती धूप सता रही, माँ बच्चे के साथ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
नारी वेदना के स्वर
नारी वेदना के स्वर
Shyam Sundar Subramanian
चाँद नभ से दूर चला, खड़ी अमावस मौन।
चाँद नभ से दूर चला, खड़ी अमावस मौन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
■ दुनिया की दुनिया जाने।
■ दुनिया की दुनिया जाने।
*Author प्रणय प्रभात*
माना दौलत है बलवान मगर, कीमत समय से ज्यादा नहीं होती
माना दौलत है बलवान मगर, कीमत समय से ज्यादा नहीं होती
पूर्वार्थ
समाज और सोच
समाज और सोच
Adha Deshwal
कोई दर ना हीं ठिकाना होगा
कोई दर ना हीं ठिकाना होगा
Shweta Soni
कैमिकल वाले रंगों से तो,पड़े रंग में भंग।
कैमिकल वाले रंगों से तो,पड़े रंग में भंग।
Neelam Sharma
नए पुराने रूटीन के याचक
नए पुराने रूटीन के याचक
Dr MusafiR BaithA
चन्द्रयान तीन क्षितिज के पार🙏
चन्द्रयान तीन क्षितिज के पार🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
तीन बुंदेली दोहा- #किवरिया / #किवरियाँ
तीन बुंदेली दोहा- #किवरिया / #किवरियाँ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"नजरें मिली तो"
Dr. Kishan tandon kranti
मोर मुकुट संग होली
मोर मुकुट संग होली
Dinesh Kumar Gangwar
लिबास -ए – उम्मीद सुफ़ेद पहन रक्खा है
लिबास -ए – उम्मीद सुफ़ेद पहन रक्खा है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कर्मफल भोग
कर्मफल भोग
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
मईया कि महिमा
मईया कि महिमा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मैं हूं कार
मैं हूं कार
Santosh kumar Miri
Loading...