Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Apr 2018 · 1 min read

कलम

आज हम तुम्हें कलम का महत्व बताते हैं
आज हम तुम्हें कलम का महत्व बताते हैं
यह कलम हमारी हस्ती बनाती है
यह कलम हमारी हस्ती मिटाती है
कहने को यह मामूली सी चीज है
कहने को यह मामूली सी चीज है
पर अमीर से अमीर
और गरीब से गरीब
इसके बिना ना रह पाता है
आज हम तुम्हें कलम का महत्व बताते हैं
आज हम तुम्हें कलम का महत्व बताते हैं
“3 अक्षरों के मेल से यह कलम शब्द बना है
कलम शब्द अपने ऊपर दुनिया का बार समेटे हुए हैं
आज जहां देखो वहां कलम का ही बोलबाला है
कलम का ही बोलबाला है”

Language: Hindi
3 Likes · 313 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तमाम आरजूओं के बीच बस एक तुम्हारी तमन्ना,
तमाम आरजूओं के बीच बस एक तुम्हारी तमन्ना,
Shalini Mishra Tiwari
जन्म दिन
जन्म दिन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
Slok maurya "umang"
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हर एक शक्स कहाँ ये बात समझेगा..
हर एक शक्स कहाँ ये बात समझेगा..
कवि दीपक बवेजा
Open mic Gorakhpur
Open mic Gorakhpur
Sandeep Albela
बोलते हैं जैसे सारी सृष्टि भगवान चलाते हैं ना वैसे एक पूरा प
बोलते हैं जैसे सारी सृष्टि भगवान चलाते हैं ना वैसे एक पूरा प
Vandna thakur
विनती
विनती
Kanchan Khanna
15, दुनिया
15, दुनिया
Dr .Shweta sood 'Madhu'
*महानगर (पाँच दोहे)*
*महानगर (पाँच दोहे)*
Ravi Prakash
माँ की यादें
माँ की यादें
मनोज कर्ण
मैं लिखूं अपनी विरह वेदना।
मैं लिखूं अपनी विरह वेदना।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
■ शर्मनाक प्रपंच...
■ शर्मनाक प्रपंच...
*प्रणय प्रभात*
सफलता
सफलता
Babli Jha
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
खुल जाता है सुबह उठते ही इसका पिटारा...
खुल जाता है सुबह उठते ही इसका पिटारा...
shabina. Naaz
कभी कभी चाहती हूँ
कभी कभी चाहती हूँ
ruby kumari
जादू था या तिलिस्म था तेरी निगाह में,
जादू था या तिलिस्म था तेरी निगाह में,
Shweta Soni
*तंजीम*
*तंजीम*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लिखना चाहूँ  अपनी बातें ,  कोई नहीं इसको पढ़ता है ! बातें कह
लिखना चाहूँ अपनी बातें , कोई नहीं इसको पढ़ता है ! बातें कह
DrLakshman Jha Parimal
सुनो! पुरूष होने का ताना तो जग देता है
सुनो! पुरूष होने का ताना तो जग देता है
पूर्वार्थ
" मैं "
Dr. Kishan tandon kranti
हम कितने नोट/ करेंसी छाप सकते है
हम कितने नोट/ करेंसी छाप सकते है
शेखर सिंह
"ये लोग"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
मुहब्बत भी मिल जाती
मुहब्बत भी मिल जाती
Buddha Prakash
लड़कियों की जिंदगी आसान नहीं होती
लड़कियों की जिंदगी आसान नहीं होती
Adha Deshwal
ग़ज़ल (ज़िंदगी)
ग़ज़ल (ज़िंदगी)
डॉक्टर रागिनी
तुम याद आये !
तुम याद आये !
Ramswaroop Dinkar
3035.*पूर्णिका*
3035.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"बेजुबान"
Pushpraj Anant
Loading...