Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2022 · 1 min read

कलम

ग़ज़ल _ मिटा दे माँग का सिन्दूर

मचलती है दहकती है,लगे अंगार लिखती है।
कलम मत पूछना यारो, हसीं अशआर लिखती है।

सरे बाज़ार लुट जाये बहिन बेटी यूँ जब कोई,
लगे जो चीखने उस रूह की,चीत्कार लिखती है।

मिटा दे माँग का सिन्दूर जब अपने ही हाथों से,
लगाए दाग दामन पर वहीं,व्यभिचार लिखती है।

लगी करने हवाले आग के मासूम बेबस को,
तजी शर्मो-हया सारी,उसे बदकार लिखती है।

गला जो घोंट देती है जिगर के अपने टुकड़े का,
लगे जो डूबने माँ का,वही किरदार लिखती है।

मिला जो हमसफर मुझको,कदम अब रोकना ना तुम,
लगा जो इश्क का ऐसा,कहीं दरबार लिखती है।

लगें जब छीनने अधिकार बेबस मजलूमों के ‘देव’
सियासत का घिनौना रोज का,व्यापार लिखती है।

✍शायर देव मेहरानियाँ _ राजस्थानी
(शायर, कवि व गीतकार)
slmehraniya@gmail.com

Language: Hindi
2 Likes · 360 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चार दिन की ज़िंदगी
चार दिन की ज़िंदगी
कार्तिक नितिन शर्मा
"रंग अनोखा पानी का"
Dr. Kishan tandon kranti
क्रांति की बात ही ना करो
क्रांति की बात ही ना करो
Rohit yadav
चिंतन और अनुप्रिया
चिंतन और अनुप्रिया
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
* कष्ट में *
* कष्ट में *
surenderpal vaidya
नन्हा मछुआरा
नन्हा मछुआरा
Shivkumar barman
*साबुन से धोकर यद्यपि तुम, मुखड़े को चमकाओगे (हिंदी गजल)*
*साबुन से धोकर यद्यपि तुम, मुखड़े को चमकाओगे (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
नशा त्याग दो
नशा त्याग दो
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
विजय या मन की हार
विजय या मन की हार
Satish Srijan
व्योम को
व्योम को
sushil sarna
प्यार भरी चांदनी रात
प्यार भरी चांदनी रात
नूरफातिमा खातून नूरी
3089.*पूर्णिका*
3089.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सरपरस्त
सरपरस्त
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
त्याग
त्याग
Punam Pande
यादों के झरने
यादों के झरने
Sidhartha Mishra
भारत माता
भारत माता
Seema gupta,Alwar
आप कभी 15% मनुवादी सोच को समझ ही नहीं पाए
आप कभी 15% मनुवादी सोच को समझ ही नहीं पाए
शेखर सिंह
नव कोंपलें स्फुटित हुई, पतझड़ के पश्चात
नव कोंपलें स्फुटित हुई, पतझड़ के पश्चात
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शालीनता की गणित
शालीनता की गणित
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
हम अभी ज़िंदगी को
हम अभी ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
Oh, what to do?
Oh, what to do?
Natasha Stephen
काल का स्वरूप🙏
काल का स्वरूप🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दरारें छुपाने में नाकाम
दरारें छुपाने में नाकाम
*Author प्रणय प्रभात*
ਪਰਦੇਸ
ਪਰਦੇਸ
Surinder blackpen
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ब्रह्मांड के विभिन्न आयामों की खोज
ब्रह्मांड के विभिन्न आयामों की खोज
Shyam Sundar Subramanian
जीभ का कमाल
जीभ का कमाल
विजय कुमार अग्रवाल
मां - हरवंश हृदय
मां - हरवंश हृदय
हरवंश हृदय
Loading...