Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

कलम घिसाई 3 आज मै ऊँचे आसन पर

आज मैं ऊँचे आसन पर मसनद के सहारे बैठा हूँ।
देख जमीन पर लोगो को खूब घमन्ड में ऐंठा हूँ।
*
इस आसन पर चढ़ने में पर कितना जियादा गिरा हूँ में।
पता नही किस किस के दर पर उनके चरणों में लेटा हूँ।
*
मालूम मुझे था ज़मीरगीरी बेश कीमती वस्तु है ।
बेच उसी को आजू मैं बन बैठा कुबेर का बेटा हूँ।
*
सच का गहना भी कभी मेरे इस तन को नही ढक पाया।
असत सहारे अंग अंग को मखमल से आज लपेटा हूँ।
*
रहा अहिंसक जब तलक मैं बहुत ही सताया लोगों ने।
पर छोडे अहिंसा को बन बैठा मैं नकटो में जेठा हूँ।
*
चोरि को पाप समझता था तब फांकानशी भी करता था।
जब माना चोरि खोट नही तो खाता मिठाई पेठा हूँ।

***********मधु गौतम
9414764891

170 Views
You may also like:
मूक हुई स्वर कोकिला
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
# दिल्ली होगा कब्जे में .....
Chinta netam " मन "
एहसासों का समन्दर लिए बैठा हूं।
Taj Mohammad
भारत की जाति व्यवस्था
AMRESH KUMAR VERMA
【9】 *!* सुबह हुई अब बिस्तर छोडो *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आस्था और भक्ति
Dr. Alpa H. Amin
*!* रचो नया इतिहास *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सबको जीवन में खुशियां लुटाते रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
मेरे गाँव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर [प्रथम...
AJAY AMITABH SUMAN
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
मीठी-मीठी बातें
AMRESH KUMAR VERMA
✍️निज़ाम✍️
"अशांत" शेखर
*अमृत-सरोवर में नौका-विहार*
Ravi Prakash
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
💐💐वासुदेव: सर्वम्💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Your laugh,Your cry.
Taj Mohammad
खोकर के अपनो का विश्वास ।......(भाग- 2)
Buddha Prakash
जानें कैसा धोखा है।
Taj Mohammad
तुम्हें जन्मदिन मुबारक हो
gurudeenverma198
सितम देखते हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
भाग्य लिपि
ओनिका सेतिया 'अनु '
【31】{~} बच्चों का वरदान निंदिया {~}
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कहां मालूम था इसको।
Taj Mohammad
मां से बिछड़ने की व्यथा
Dr. Alpa H. Amin
جانے کہاں وہ دن گئے فصل بہار کے
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
तल्खिय़ां
Anoop Sonsi
नारी है सम्मान।
Taj Mohammad
इब्ने सफ़ी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐 निगोड़ी बिजली 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कारण के आगे कारण
सूर्यकांत द्विवेदी
Loading...