Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2022 · 1 min read

कलम की वेदना (गीत)

मैं कलम की वेदना हूँ, लिख रही पाती तुझे
तुम वतन के हो दीया तो मान लो बाती मुझे

हाँ, सभी को है पता, आज का हर सिलसिला
शत्रु द्वारे पर खड़े और हँस रहे हैं खिलखिला
लग रहा है इस वतन में अब नहीं कोई महान
तुम बचाओ या मिटूँ मैं यह बता साथी मुझे

सब पड़े क्यों? मौन आज, मिट रही मैं भारती
मुझको कौन बचायेगा? , मैं ही जगत को तारती
क्यों? कोई अब इस धरा पर, नहीं बचा है जवान
ममता मेरी है अखण्डित, ना करो खंडित मुझे

आजादी का स्वप्न देखा, वीर भगत सुभाष ने
बनके पक्षी गीत गायी, मेरी हर एहसास ने
अब जो खंडित हो गई, बचना नहीं होगा आसान
मुझको मारो या बचाओ कह रही साथी तुझे

मैं कलम की वेदना……………….. …।
—- ✍सूरज राम आदित्य

Language: Hindi
Tag: गीत
5 Likes · 2 Comments · 671 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मौन जीव के ज्ञान को, देता  अर्थ विशाल ।
मौन जीव के ज्ञान को, देता अर्थ विशाल ।
sushil sarna
धरा प्रकृति माता का रूप
धरा प्रकृति माता का रूप
Buddha Prakash
किसान और जवान
किसान और जवान
Sandeep Kumar
किताबों में झुके सिर दुनिया में हमेशा ऊठे रहते हैं l
किताबों में झुके सिर दुनिया में हमेशा ऊठे रहते हैं l
Ranjeet kumar patre
आंखों में नींद आती नही मुझको आजकल
आंखों में नींद आती नही मुझको आजकल
कृष्णकांत गुर्जर
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
Mukesh Kumar Sonkar
पिता का साया
पिता का साया
Neeraj Agarwal
26. ज़ाया
26. ज़ाया
Rajeev Dutta
*जिसने भी देखा अंतर्मन, उसने ही प्रभु पाया है (हिंदी गजल)*
*जिसने भी देखा अंतर्मन, उसने ही प्रभु पाया है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
"हर कोई अपने होते नही"
Yogendra Chaturwedi
एक दिन सूखे पत्तों की मानिंद
एक दिन सूखे पत्तों की मानिंद
पूर्वार्थ
गीता, कुरान ,बाईबल, गुरु ग्रंथ साहिब
गीता, कुरान ,बाईबल, गुरु ग्रंथ साहिब
Harminder Kaur
दुख वो नहीं होता,
दुख वो नहीं होता,
Vishal babu (vishu)
నమో నమో నారసింహ
నమో నమో నారసింహ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
मेघा तू सावन में आना🌸🌿🌷🏞️
मेघा तू सावन में आना🌸🌿🌷🏞️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कभी न खत्म होने वाला यह समय
कभी न खत्म होने वाला यह समय
प्रेमदास वसु सुरेखा
ये सुबह खुशियों की पलक झपकते खो जाती हैं,
ये सुबह खुशियों की पलक झपकते खो जाती हैं,
Manisha Manjari
अर्थी पे मेरे तिरंगा कफ़न हो
अर्थी पे मेरे तिरंगा कफ़न हो
Er.Navaneet R Shandily
“जागू मिथिलावासी जागू”
“जागू मिथिलावासी जागू”
DrLakshman Jha Parimal
छूटा उसका हाथ
छूटा उसका हाथ
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
"आधी है चन्द्रमा रात आधी "
Pushpraj Anant
उलझनें
उलझनें
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
2767. *पूर्णिका*
2767. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सत्य प्रेम से पाएंगे
सत्य प्रेम से पाएंगे
महेश चन्द्र त्रिपाठी
"पिता का घर"
Dr. Kishan tandon kranti
आंखें
आंखें
Ghanshyam Poddar
कुछ लिखा हैं तुम्हारे लिए, तुम सुन पाओगी क्या
कुछ लिखा हैं तुम्हारे लिए, तुम सुन पाओगी क्या
Writer_ermkumar
हर लम्हा
हर लम्हा
Dr fauzia Naseem shad
पंचतत्व
पंचतत्व
लक्ष्मी सिंह
मैं नहीं कहती
मैं नहीं कहती
Dr.Pratibha Prakash
Loading...