Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

कलम की वेदना (गीत)

मैं कलम की वेदना हूँ, लिख रही पाती तुझे
तुम वतन के हो दिया तो मान लो बाती मुझे

हाँ सभी को है पता आज का हर सिलसिला
शत्रु द्वारे पर खड़े और हँस रहे खिलखिला
कह रहे हैं इस वतन में अब नहीं कोई महान
तुम मिटाओ या मिटूँ मैं यह बता साथी मुझे

सब पड़े हैं मौन आज, लुट रही माँ भारती
इसको कौन बचायेंगा, जो जगत को तारती
लग रहा है इस धरा पर अब नहीं कोई जवान
ममता इसकी है अखण्डित, मत करो खंडित इसे

आजादी का स्वप्न देखा, वीर भगत सुभाष ने
बनके पक्षी गीत गायी, भारती की आश ने
अब जो खंडित हो गई तो नहीं बचेगा ये जहान
मुझको मारो या बचाओ कह रही साथी तुझे

मैं कलम की वेदना……………….. …।
—- ✍सूरज राम आदित्य

3 Likes · 2 Comments · 130 Views
You may also like:
अल्फाज़ ए ताज भाग-4
Taj Mohammad
माफी मैं नहीं मांगता
gurudeenverma198
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
✍️✍️जूनून में आग✍️✍️
'अशांत' शेखर
अपनी ख़्वाहिशों को
Dr fauzia Naseem shad
सुकूं का प्यासा है।
Taj Mohammad
ओ भोले भण्डारी
Anamika Singh
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
💐💐स्वरूपे कोलाहल: नैव💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️मुतअस्सिर✍️
'अशांत' शेखर
चुनौती
AMRESH KUMAR VERMA
राखी त्यौहार बंधन का - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
आज अब्र भी कबसे बरस रहा है।
Taj Mohammad
✍️इश्क़ से उम्मीदे बाकी है✍️
'अशांत' शेखर
'गुरु' (देव घनाक्षरी)
Godambari Negi
स्वागत बा श्री मान
आकाश महेशपुरी
🌺🌺प्रेम की राह पर-47🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️हलाल✍️
'अशांत' शेखर
है रौशन बड़ी।
Taj Mohammad
स्वतंत्रता की सार्थकता
Dr fauzia Naseem shad
*माँ छिन्नमस्तिका 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
योग क्या है और इसकी महत्ता
Ram Krishan Rastogi
लाख सितारे ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
@@कामना च आवश्यकता च विभेदः@@
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
शहीद की बहन और राखी
DESH RAJ
दोस्त हो जो मेरे पास आओ कभी।
सत्य कुमार प्रेमी
గురువు
Vijaykumar Gundal
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
Jyoti Khari
इन्सानों का ये लालच तो देखिए।
Taj Mohammad
Loading...