Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Nov 2023 · 1 min read

करवाचौथ

उपवास रख कर बैठे हैं, करे चांद का इंतजार
देख क्या-क्या सहना पड़ा,क्यूं हुआ तुमसे प्यार
जल्दी उठ कर नहाना धोना ,करनी था पूजा
साडी पहन ऊपर से करना था सोलह श्रृंगार।

जल्दी जल्दी हाथ चलाया ,खायी मैंने सरगी
थोड़ी हेल्प तुम कर दो, चाय कर दो तैयार।

बनाते तो वैसे रोज़ ही तुम हो ,चाय कड़क सी
डांटूंगी न आज तुम्हें , वादा करती हूं यार।

बच्चों के टिफिन में तुम ब्रैड जैम ही रख देना
तुम भी कहीं बाहर से खाकर लेना दिन गुजार

बाईं आज नहीं आयेगी ,बर्तन भी तुम कर देना
क्योंकि मुझे आज सोना है लंबे पांव पसार।

आधे दिन की छुट्टी लेकर ,हो सके तो आ जाना
भूख से सर दर्द होगा तो ,किससे करूं पुकार।

शाम को जब कथा सुनने ,सज धज कर मैं जाऊं
झाड़ू-पोछा, होमवर्क,देना तुम दाल बघार।

इतना तो तुम कर सकते हो मेरे लिए आखिर तुम ।
हां चांद निकलने से पहले होना अच्छे से तैयार

पूजा की पिक्स अच्छी आनी है बहुत जरूरी
फेसबुक वाट्सएप पर ,लगे न कहीं बेकार ।

और हां रात को सोने से पहले भूल न जाना
थक जाऊंगी,पांव दबाने का कर लो इकरार।

सुरिंदर कौर

Language: Hindi
90 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
सिपाहियों के दस्ता कर रहें गस्त हैं,
सिपाहियों के दस्ता कर रहें गस्त हैं,
Satish Srijan
■ सेवाएं ऑनलाइन भी उपलब्ध।
■ सेवाएं ऑनलाइन भी उपलब्ध।
*Author प्रणय प्रभात*
मेरा यार आसमां के चांद की तरह है,
मेरा यार आसमां के चांद की तरह है,
Dushyant Kumar Patel
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
Basant Bhagawan Roy
क्यों इस तरहां अब हमें देखते हो
क्यों इस तरहां अब हमें देखते हो
gurudeenverma198
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
The_dk_poetry
सजदे में झुकते तो हैं सर आज भी, पर मन्नतें मांगीं नहीं जातीं।
सजदे में झुकते तो हैं सर आज भी, पर मन्नतें मांगीं नहीं जातीं।
Manisha Manjari
हम जो कहेंगे-सच कहेंगे
हम जो कहेंगे-सच कहेंगे
Shekhar Chandra Mitra
फूल कभी भी बेजुबाॅ॑ नहीं होते
फूल कभी भी बेजुबाॅ॑ नहीं होते
VINOD CHAUHAN
"अटल सत्य"
Dr. Kishan tandon kranti
****हमारे मोदी****
****हमारे मोदी****
Kavita Chouhan
अपनी काविश से जो मंजिल को पाने लगते हैं वो खारज़ार ही गुलशन बनाने लगते हैं। ❤️ जिन्हे भी फिक्र नहीं है अवामी मसले की। शोर संसद में वही तो मचाने लगते हैं।
अपनी काविश से जो मंजिल को पाने लगते हैं वो खारज़ार ही गुलशन बनाने लगते हैं। ❤️ जिन्हे भी फिक्र नहीं है अवामी मसले की। शोर संसद में वही तो मचाने लगते हैं।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दो जीवन
दो जीवन
Rituraj shivem verma
దీపావళి కాంతులు..
దీపావళి కాంతులు..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
सांत्वना
सांत्वना
भरत कुमार सोलंकी
चल पनघट की ओर सखी।
चल पनघट की ओर सखी।
Anil Mishra Prahari
लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी
लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी
Dr Tabassum Jahan
अच्छा ही हुआ कि तुमने धोखा दे  दिया......
अच्छा ही हुआ कि तुमने धोखा दे दिया......
Rakesh Singh
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
मैं अकेला महसूस करता हूं
मैं अकेला महसूस करता हूं
पूर्वार्थ
चातक तो कहता रहा, बस अम्बर से आस।
चातक तो कहता रहा, बस अम्बर से आस।
Suryakant Dwivedi
********* बुद्धि  शुद्धि  के दोहे *********
********* बुद्धि शुद्धि के दोहे *********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कौन कितने पानी में
कौन कितने पानी में
Mukesh Jeevanand
23/74.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/74.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मन की पीड़ा क
मन की पीड़ा क
Neeraj Agarwal
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
सेवा या भ्रष्टाचार
सेवा या भ्रष्टाचार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
परिंदा हूं आसमां का
परिंदा हूं आसमां का
Praveen Sain
-- मंदिर में ड्रेस कोड़ --
-- मंदिर में ड्रेस कोड़ --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
ज़िंदगी के सौदागर
ज़िंदगी के सौदागर
Shyam Sundar Subramanian
Loading...