Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2023 · 1 min read

करते प्रियजन जब विदा ,भर-भर आता नीर (कुंडलिया)*

करते प्रियजन जब विदा ,भर-भर आता नीर (कुंडलिया)*
________________________________
करते प्रियजन जब विदा ,भर-भर आता नीर
संबंधी क्या मित्र क्या , होते सभी अधीर
होते सभी अधीर , फूटकर दिखते रोते
जिनको प्रीति विशेष ,भीतरी सुध-बुध खोते
कहते रवि कविराय ,लोग जाने क्यों मरते
क्यों निर्मम भगवान , पाश क्यों बॉंधा करते
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°
नीर = जल // पाश = बंधन
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

1 Like · 1 Comment · 161 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
सीख लिया मैनै
सीख लिया मैनै
Seema gupta,Alwar
■ पाठक बचे न श्रोता।
■ पाठक बचे न श्रोता।
*Author प्रणय प्रभात*
"कथरी"
Dr. Kishan tandon kranti
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
!! उमंग !!
!! उमंग !!
Akash Yadav
दोस्ती गहरी रही
दोस्ती गहरी रही
Rashmi Sanjay
बहुत बार
बहुत बार
Shweta Soni
किसी से बाते करना छोड़ देना यानि की त्याग देना, उसे ब्लॉक कर
किसी से बाते करना छोड़ देना यानि की त्याग देना, उसे ब्लॉक कर
Rj Anand Prajapati
हे कृतघ्न मानव!
हे कृतघ्न मानव!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
Jatashankar Prajapati
कितने भारत
कितने भारत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
खुशनसीब
खुशनसीब
Bodhisatva kastooriya
हसलों कि उड़ान
हसलों कि उड़ान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*दिल में  बसाई तस्वीर है*
*दिल में बसाई तस्वीर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ତୁମ ର ହସ
ତୁମ ର ହସ
Otteri Selvakumar
उर्दू वर्किंग जर्नलिस्ट का पहला राष्ट्रिय सम्मेलन हुआ आयोजित।
उर्दू वर्किंग जर्नलिस्ट का पहला राष्ट्रिय सम्मेलन हुआ आयोजित।
Shakil Alam
कौड़ी कौड़ी माया जोड़े, रटले राम का नाम।
कौड़ी कौड़ी माया जोड़े, रटले राम का नाम।
Anil chobisa
हमारा भारतीय तिरंगा
हमारा भारतीय तिरंगा
Neeraj Agarwal
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
समझ आये तों तज्जबो दीजियेगा
समझ आये तों तज्जबो दीजियेगा
शेखर सिंह
वो सुहाने दिन
वो सुहाने दिन
Aman Sinha
घनाक्षरी गीत...
घनाक्षरी गीत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
$ग़ज़ल
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
*पूर्णिका*
*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सुरमई शाम का उजाला है
सुरमई शाम का उजाला है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
‘पितृ देवो भव’ कि स्मृति में दो शब्द.............
‘पितृ देवो भव’ कि स्मृति में दो शब्द.............
Awadhesh Kumar Singh
"वृद्धाश्रम"
Radhakishan R. Mundhra
मेरे अल्फ़ाज़
मेरे अल्फ़ाज़
Dr fauzia Naseem shad
*भर दो गणपति देवता, हम में बुद्धि विवेक (कुंडलिया)*
*भर दो गणपति देवता, हम में बुद्धि विवेक (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ये किस धर्म के लोग हैं
ये किस धर्म के लोग हैं
gurudeenverma198
Loading...