Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2016 · 1 min read

करके मेहनत रात दिन,पाले जो परिवार

करके मेहनत रात दिन,पाले जो परिवार
मिले बुढापे में उसे ,गैरों सा व्यवहार
गैरों सा व्यवहार , अकेला खुद को पाये
खाली भी है हाथ, रास्ता नज़र न आये
हुई अर्चना उम्र, उधर पैसे की किल्लत
लेकिन है खुद्दार, कमाए करके मेहनत

डॉ अर्चना गुप्ता

2 Comments · 439 Views
You may also like:
जीने ना दिया है।
Taj Mohammad
✍️आस्तीन में सांप✍️
'अशांत' शेखर
करप्शन के टॉवर ढह गए
Ram Krishan Rastogi
फिर क्युं कहते हैं लोग
Seema 'Tu hai na'
Education
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
घुटने टेके नर, कुत्ती से हीन दिख रहा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भक्तिरेव गरीयसी
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम गर्म चाय तंदूरी हो
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
जिनके पास अखबार नहीं होते
Kaur Surinder
आज बच्चों के हथेली पर किलकते फोन हैं।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
जयकार हो जयकार हो सुखधाम राघव राम की।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जो देखें उसमें
Dr.sima
मोह....
Rakesh Bahanwal
उस निरोगी का रोग
gurudeenverma198
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
यह यादें
Anamika Singh
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
अपने शून्य पटल से
Rashmi Sanjay
दुआ कीजिएगा
Shekhar Chandra Mitra
ट्रस्टीशिप विचार: 1982 में प्रकाशित मेरी पुस्तक
Ravi Prakash
“ गंगा ” का सन्देश
DESH RAJ
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
जगत के स्वामी
AMRESH KUMAR VERMA
जून की दोपहर (कविता)
Kanchan Khanna
गुब्बारा
लक्ष्मी सिंह
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"फौजी और उसका शहीद साथी"
Lohit Tamta
जज़्बा
Shyam Sundar Subramanian
🌸हे लोहपथगामिनी 🌸🌸
Arvina
उसूल
Ray's Gupta
Loading...