Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2016 · 1 min read

करके मेहनत रात दिन,पाले जो परिवार

करके मेहनत रात दिन,पाले जो परिवार
मिले बुढापे में उसे ,गैरों सा व्यवहार
गैरों सा व्यवहार , अकेला खुद को पाये
खाली भी है हाथ, रास्ता नज़र न आये
हुई अर्चना उम्र, उधर पैसे की किल्लत
लेकिन है खुद्दार, कमाए करके मेहनत

डॉ अर्चना गुप्ता

1 Like · 2 Comments · 564 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
पुस्तक समीक्षा - अंतस की पीड़ा से फूटा चेतना का स्वर रेत पर कश्तियाँ
पुस्तक समीक्षा - अंतस की पीड़ा से फूटा चेतना का स्वर रेत पर कश्तियाँ
डॉ. दीपक मेवाती
■ प्रणय का गीत-
■ प्रणय का गीत-
*Author प्रणय प्रभात*
"तेरे बारे में"
Dr. Kishan tandon kranti
आ जाते हैं जब कभी, उमड़ घुमड़ घन श्याम।
आ जाते हैं जब कभी, उमड़ घुमड़ घन श्याम।
surenderpal vaidya
ज़िंदगी देती है
ज़िंदगी देती है
Dr fauzia Naseem shad
आप दिलकश जो है
आप दिलकश जो है
gurudeenverma198
अपने-अपने चक्कर में,
अपने-अपने चक्कर में,
Dr. Man Mohan Krishna
सिर्फ विकट परिस्थितियों का सामना
सिर्फ विकट परिस्थितियों का सामना
Anil Mishra Prahari
एक नयी रीत
एक नयी रीत
Harish Chandra Pande
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ये अमलतास खुद में कुछ ख़ास!
ये अमलतास खुद में कुछ ख़ास!
Neelam Sharma
महफिल में तनहा जले, खूब हुए बदनाम ।
महफिल में तनहा जले, खूब हुए बदनाम ।
sushil sarna
Living life now feels like an unjust crime, Sentenced to a world without you for all time.
Living life now feels like an unjust crime, Sentenced to a world without you for all time.
Manisha Manjari
एक मशाल जलाओ तो यारों,
एक मशाल जलाओ तो यारों,
नेताम आर सी
चिरैया पूछेंगी एक दिन
चिरैया पूछेंगी एक दिन
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
(आखिर कौन हूं मैं )
(आखिर कौन हूं मैं )
Sonia Yadav
गरिमामय प्रतिफल
गरिमामय प्रतिफल
Shyam Sundar Subramanian
शिक्षक हमारे देश के
शिक्षक हमारे देश के
Bhaurao Mahant
*सूरत चाहे जैसी भी हो, पर मुस्काऍं होली में 【 हिंदी गजल/ गीत
*सूरत चाहे जैसी भी हो, पर मुस्काऍं होली में 【 हिंदी गजल/ गीत
Ravi Prakash
मंतर मैं पढ़ूॅंगा
मंतर मैं पढ़ूॅंगा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
अच्छा खाना
अच्छा खाना
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
2905.*पूर्णिका*
2905.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बुंदेली दोहा-
बुंदेली दोहा- "पैचान" (पहचान) भाग-2
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दुनिया बदल गयी ये नज़ारा बदल गया ।
दुनिया बदल गयी ये नज़ारा बदल गया ।
Phool gufran
💐प्रेम कौतुक-401💐
💐प्रेम कौतुक-401💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गरीबी……..
गरीबी……..
Awadhesh Kumar Singh
क्या देखा है मैंने तुझमें?....
क्या देखा है मैंने तुझमें?....
Amit Pathak
मुझे इश्क से नहीं,झूठ से नफरत है।
मुझे इश्क से नहीं,झूठ से नफरत है।
लक्ष्मी सिंह
वाह टमाटर !!
वाह टमाटर !!
Ahtesham Ahmad
प्रथम संवाद में अपने से श्रेष्ठ को कभी मित्र नहीं कहना , हो
प्रथम संवाद में अपने से श्रेष्ठ को कभी मित्र नहीं कहना , हो
DrLakshman Jha Parimal
Loading...