Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2023 · 1 min read

कमी नहीं थी___

कमी नहीं थी___
हमें चाहने वालों की l
विचारों पर हमारे __
चलने वालों की।।
हम लिखते रहे _
साथ सबके बहते रहे।
कमी भी तो नहीं थी_
हमे सताने वालो की।।
राजेश व्यास अनुनय

1 Like · 448 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अवधी गीत
अवधी गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
कल रहूॅं-ना रहूॅं...
कल रहूॅं-ना रहूॅं...
पंकज कुमार कर्ण
जब आए शरण विभीषण तो प्रभु ने लंका का राज दिया।
जब आए शरण विभीषण तो प्रभु ने लंका का राज दिया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*झूठा  बिकता यूँ अख़बार है*
*झूठा बिकता यूँ अख़बार है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
एकांत में रहता हूँ बेशक
एकांत में रहता हूँ बेशक
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
ये उदास शाम
ये उदास शाम
shabina. Naaz
जब तुम उसको नहीं पसन्द तो
जब तुम उसको नहीं पसन्द तो
gurudeenverma198
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
भावनाओं का प्रबल होता मधुर आधार।
भावनाओं का प्रबल होता मधुर आधार।
surenderpal vaidya
ऐ ज़िंदगी।
ऐ ज़िंदगी।
Taj Mohammad
चलते-चलते...
चलते-चलते...
डॉ.सीमा अग्रवाल
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
Manoj Mahato
ढलता सूरज वेख के यारी तोड़ जांदे
ढलता सूरज वेख के यारी तोड़ जांदे
कवि दीपक बवेजा
हम पर कष्ट भारी आ गए
हम पर कष्ट भारी आ गए
Shivkumar Bilagrami
चोर
चोर
Shyam Sundar Subramanian
वफा माँगी थी
वफा माँगी थी
Swami Ganganiya
मन के घाव
मन के घाव
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मुल्क़ में अब
मुल्क़ में अब
*Author प्रणय प्रभात*
सरस्वती वंदना । हे मैया ,शारदे माँ
सरस्वती वंदना । हे मैया ,शारदे माँ
Kuldeep mishra (KD)
अपने हुए पराए लाखों जीवन का यही खेल है
अपने हुए पराए लाखों जीवन का यही खेल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
मन की आँखें खोल
मन की आँखें खोल
Kaushal Kumar Pandey आस
बितियाँ बात सुण लेना
बितियाँ बात सुण लेना
Anil chobisa
2464.पूर्णिका
2464.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी ज
जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी ज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भगवान सर्वव्यापी हैं ।
भगवान सर्वव्यापी हैं ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
बता ये दर्द
बता ये दर्द
विजय कुमार नामदेव
प्रभु शुभ कीजिए परिवेश
प्रभु शुभ कीजिए परिवेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जहरीले धूप में (कविता )
जहरीले धूप में (कविता )
Ghanshyam Poddar
रिश्ते
रिश्ते
विजय कुमार अग्रवाल
(25) यह जीवन की साँझ, और यह लम्बा रस्ता !
(25) यह जीवन की साँझ, और यह लम्बा रस्ता !
Kishore Nigam
Loading...