Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Dec 2023 · 1 min read

कमबख़्त इश़्क

जबसे हमने तुम्हें अपना
बना लिया ,
कर खुद को तुम्हारे हवाले दर्द दिल में
बसा लिया ,

बावफ़ा हो ता-‘उम्र हमने
वफ़ा का निबाह किया ,
फ़ितरत से मा’ज़ूर तुमने
हमारा दिल तोड़ दिया ,

जो कुछ हमारा था हमने
तुम पर क़ुर्बां किया ,
हमारी चाहत का तुमने
हमें ये सिला दिया ,

सच कहते हैं, ज़िदगानी में
कुछ ऐसे मरहले आते हैं ,
जब हम ग़ैरों से नहीं,
अपनों से फ़रेब खाते हैं ,

कमबख़्त ‘इश़्क भी
क्या चीज़ है ?
जिसे मानता ये अपने
दिल के क़रीब है ,

दिल हार उसे ,
किसी और का हो नहीं हो सकता ,
फ़ना होकर भी ,
माइल -ब -सुकुँ हो नहीं सकता ।

Language: Hindi
114 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
आवाज़ दीजिए Ghazal by Vinit Singh Shayar
आवाज़ दीजिए Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
गौरी सुत नंदन
गौरी सुत नंदन
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
दोहा पंचक. . . नैन
दोहा पंचक. . . नैन
sushil sarna
मैं हमेशा अकेली इसलिए रह  जाती हूँ
मैं हमेशा अकेली इसलिए रह जाती हूँ
Amrita Srivastava
हम भी जिंदगी भर उम्मीदों के साए में चलें,
हम भी जिंदगी भर उम्मीदों के साए में चलें,
manjula chauhan
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
3193.*पूर्णिका*
3193.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
😢😢
😢😢
*Author प्रणय प्रभात*
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
बेटी को पंख के साथ डंक भी दो
बेटी को पंख के साथ डंक भी दो
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
नफ़रतों की बर्फ़ दिल में अब पिघलनी चाहिए।
नफ़रतों की बर्फ़ दिल में अब पिघलनी चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
मुकेश का दीवाने
मुकेश का दीवाने
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
समस्या का समाधान
समस्या का समाधान
Paras Nath Jha
*भारत माता को किया, किसने लहूलुहान (कुंडलिया)*
*भारत माता को किया, किसने लहूलुहान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
नयन
नयन
डॉक्टर रागिनी
हिंदू कौन?
हिंदू कौन?
Sanjay ' शून्य'
सरकार हैं हम
सरकार हैं हम
pravin sharma
आखिर क्यूं?
आखिर क्यूं?
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सजल नयन
सजल नयन
Dr. Meenakshi Sharma
लबो पे तबस्सुम निगाहों में बिजली,
लबो पे तबस्सुम निगाहों में बिजली,
Vishal babu (vishu)
माँ लक्ष्मी
माँ लक्ष्मी
Bodhisatva kastooriya
पिता बनाम बाप
पिता बनाम बाप
Sandeep Pande
चाहे मिल जाये अब्र तक।
चाहे मिल जाये अब्र तक।
Satish Srijan
"चुम्बन"
Dr. Kishan tandon kranti
पहाड़ों की हंसी ठिठोली
पहाड़ों की हंसी ठिठोली
Shankar N aanjna
⚘*अज्ञानी की कलम*⚘
⚘*अज्ञानी की कलम*⚘
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ऐ जिंदगी....
ऐ जिंदगी....
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
पढ़ो लिखो आगे बढ़ो पढ़ना जरूर ।
पढ़ो लिखो आगे बढ़ो पढ़ना जरूर ।
Rajesh vyas
बेटियां ?
बेटियां ?
Dr.Pratibha Prakash
Loading...