Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Aug 2021 · 1 min read

कभी सोचता हूं !

कभी सोचता हूं
इस धरा पर आखिर मैं क्यों आया,
जीवन में क्या खोया क्या पाया।
अगणित लोगों की भांति कहीं
मैं भी तो अकारण ही नहीं आया।

कभी सोचता हूं
बिना लक्ष्य के कैसा जीवन है,
बिना पुष्प के कैसा उपवन है।
हर कोई खुद में ही यहां परेशां है,
कहीं ज़मीन तो कहीं आसमां है।

कभी सोचता हूं,
जो मैं नहीं जन्मा होता ,
एक पौधा जो कम पनपा होता।
क्या फर्क पड़ जाता संसार को।
छल कपट से भरे बाज़ार को।

वैसे ही बहुत भीड़ है यहां,
मारामारी थोड़ी कम हो जाती।
शायद कुछ लोगो के ना आने से,
दुनिया और सुकून से सो पाती।

कभी सोचता हूं
प्रकृति का खेल भी निराला है,
विधाता भी लगता मतवाला है।
जन्म से शुरू हुई जो कहानी,
न चाहते हुए भी सबको बितानी।

कभी सोचता हूं
जीवन में इतना संघर्ष क्यूं है,
आखिर यहां इतना दर्द क्यों है।
क्यों आंखों में सबकी नमी है,
सब पाकर भी, ये कैसी कमी है।

कभी सोचता हूं,
ऊपर वाले ने दुनिया क्यूं बनाई।
इस रचना का मकसद क्या है,
क्यूं जीवन मृत्यु का खेल चल रहा,
मोम बन हर कोई क्यों गल रहा।

कभी सोचता हूं
ये कैसा कर्म का बंधन है,
जब फल अपने हाथ ही नहीं।
ये कैसा अजीब सा सफर है,
जब जाता कोई साथ ही नहीं।

कभी सोचता हूं
काल चक्र क्यों अनवरत चल रहा,
सपनों को हमारे क्यों ये छ्ल रहा।
समय आने पर सब खो जायेगा,
जीवन ये मृत्य बन सो जायेगा।

Language: Hindi
1 Comment · 507 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बीमार घर/ (नवगीत)
बीमार घर/ (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
!! कुद़रत का संसार !!
!! कुद़रत का संसार !!
Chunnu Lal Gupta
फितरत
फितरत
Awadhesh Kumar Singh
न मौत आती है ,न घुटता है दम
न मौत आती है ,न घुटता है दम
Shweta Soni
LALSA
LALSA
Raju Gajbhiye
सीखने की, ललक है, अगर आपमें,
सीखने की, ललक है, अगर आपमें,
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
वह फिर से छोड़ गया है मुझे.....जिसने किसी और      को छोड़कर
वह फिर से छोड़ गया है मुझे.....जिसने किसी और को छोड़कर
Rakesh Singh
93. ये खत मोहब्बत के
93. ये खत मोहब्बत के
Dr. Man Mohan Krishna
'ਸਾਜਿਸ਼'
'ਸਾਜਿਸ਼'
विनोद सिल्ला
" मैं "
Dr. Kishan tandon kranti
*संसार में कितनी भॅंवर, कितनी मिलीं मॅंझधार हैं (हिंदी गजल)*
*संसार में कितनी भॅंवर, कितनी मिलीं मॅंझधार हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मैं हर महीने भीग जाती हूँ
मैं हर महीने भीग जाती हूँ
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
अहंकार
अहंकार
लक्ष्मी सिंह
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
#देख_लिया
#देख_लिया
*प्रणय प्रभात*
*रक्तदान*
*रक्तदान*
Dushyant Kumar
तुम कहो तो कुछ लिखूं!
तुम कहो तो कुछ लिखूं!
विकास सैनी The Poet
खो दोगे
खो दोगे
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
यह अपना धर्म हम, कभी नहीं भूलें
यह अपना धर्म हम, कभी नहीं भूलें
gurudeenverma198
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
*फ़र्ज*
*फ़र्ज*
Harminder Kaur
तहजीब राखिए !
तहजीब राखिए !
साहित्य गौरव
" अधरों पर मधु बोल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
श्री श्याम भजन
श्री श्याम भजन
Khaimsingh Saini
मेरा प्यारा राज्य...... उत्तर प्रदेश
मेरा प्यारा राज्य...... उत्तर प्रदेश
Neeraj Agarwal
खुश वही है जिंदगी में जिसे सही जीवन साथी मिला है क्योंकि हर
खुश वही है जिंदगी में जिसे सही जीवन साथी मिला है क्योंकि हर
Ranjeet kumar patre
"निक्कू खरगोश"
Dr Meenu Poonia
जुनून
जुनून
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"आंखरी ख़त"
Lohit Tamta
मोर मुकुट संग होली
मोर मुकुट संग होली
Dinesh Kumar Gangwar
Loading...