Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2023 · 1 min read

*कभी नहीं पशुओं को मारो (बाल कविता)*

कभी नहीं पशुओं को मारो (बाल कविता)

कभी नहीं पशुओं को मारो
उनमें भी हैं प्राण विचारो
पशु भी तो सॉंसें लेते हैं
पुचकारो तो हॅंस देते हैं
नहीं मारकर पशु खाऍंगे
शाकाहारी कहलाऍंगे

रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

424 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
प्रेमी ने प्रेम में हमेशा अपना घर और समाज को चुना हैं
प्रेमी ने प्रेम में हमेशा अपना घर और समाज को चुना हैं
शेखर सिंह
"जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
हंसना - रोना
हंसना - रोना
manjula chauhan
वह (कुछ भाव-स्वभाव चित्र)
वह (कुछ भाव-स्वभाव चित्र)
Dr MusafiR BaithA
दुनियाँ में सबने देखा अपना महान भारत।
दुनियाँ में सबने देखा अपना महान भारत।
सत्य कुमार प्रेमी
मेरी हस्ती का अभी तुम्हे अंदाज़ा नही है
मेरी हस्ती का अभी तुम्हे अंदाज़ा नही है
'अशांत' शेखर
राष्ट्रशांति
राष्ट्रशांति
Neeraj Agarwal
*हर शाम निहारूँ मै*
*हर शाम निहारूँ मै*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हमारे जमाने में साइकिल तीन चरणों में सीखी जाती थी ,
हमारे जमाने में साइकिल तीन चरणों में सीखी जाती थी ,
Rituraj shivem verma
!! रक्षाबंधन का अभिनंदन!!
!! रक्षाबंधन का अभिनंदन!!
Chunnu Lal Gupta
from under tony's bed - I think she must be traveling
from under tony's bed - I think she must be traveling
Desert fellow Rakesh
शाम
शाम
Kanchan Khanna
हास्य गीत
हास्य गीत
*प्रणय प्रभात*
द़ुआ कर
द़ुआ कर
Atul "Krishn"
तुम - हम और बाजार
तुम - हम और बाजार
Awadhesh Singh
रख हौसला, कर फैसला, दृढ़ निश्चय के साथ
रख हौसला, कर फैसला, दृढ़ निश्चय के साथ
Krishna Manshi
ऐसा क्यों होता है..?
ऐसा क्यों होता है..?
Dr Manju Saini
डॉ. राकेशगुप्त की साधारणीकरण सम्बन्धी मान्यताओं के आलोक में आत्मीयकरण
डॉ. राकेशगुप्त की साधारणीकरण सम्बन्धी मान्यताओं के आलोक में आत्मीयकरण
कवि रमेशराज
प्यार हमें
प्यार हमें
SHAMA PARVEEN
मैं ....
मैं ....
sushil sarna
जय मातु! ब्रह्मचारिणी,
जय मातु! ब्रह्मचारिणी,
Neelam Sharma
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बड़ी सी इस दुनिया में
बड़ी सी इस दुनिया में
पूर्वार्थ
भुलाया ना जा सकेगा ये प्रेम
भुलाया ना जा सकेगा ये प्रेम
The_dk_poetry
*गणेश जी (बाल कविता)*
*गणेश जी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
दर्द व्यक्ति को कमजोर नहीं बल्कि मजबूत बनाती है और साथ ही मे
दर्द व्यक्ति को कमजोर नहीं बल्कि मजबूत बनाती है और साथ ही मे
Rj Anand Prajapati
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
**कविता: आम आदमी की कहानी**
**कविता: आम आदमी की कहानी**
Dr Mukesh 'Aseemit'
वक़्त की एक हद
वक़्त की एक हद
Dr fauzia Naseem shad
सावन के पर्व-त्योहार
सावन के पर्व-त्योहार
लक्ष्मी सिंह
Loading...