Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jan 2024 · 1 min read

कभी ताना कभी तारीफ मिलती है

कभी ताना कभी तारीफ मिलती है।
सही है जिन्दगी अक्सर मचलती है।।
1222, 1222, 1222
न घबराओ कभी संकट अगर आते।
कभी फूलों कभी काटों टहलती है।।

दुखों के दिन नहीं कटते मगर सुख के।
दिनों में जिन्दगी रफ्तार चलती है।।

सुनो मेहनत सदा करते रहो खुश दिल।
अगर आलस किये तो उम्र घटती है।।

निकालो द्वेष दिल से प्रेम रक्खो बस।
सुहानी जिन्दगी ‘कौशल’ चहकती है।।
कौशलेन्द्र सिंह लोधी कौशल

Language: Hindi
97 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*जाते देखो भक्तजन, तीर्थ अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
*जाते देखो भक्तजन, तीर्थ अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कवर नयी है किताब वही पुराना है।
कवर नयी है किताब वही पुराना है।
Manoj Mahato
दिवाली त्योहार का महत्व
दिवाली त्योहार का महत्व
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
आओ प्यारे कान्हा हिल मिल सब खेलें होली,
आओ प्यारे कान्हा हिल मिल सब खेलें होली,
सत्य कुमार प्रेमी
आइए जनाब
आइए जनाब
Surinder blackpen
आशा
आशा
नवीन जोशी 'नवल'
"चिराग"
Ekta chitrangini
होली कान्हा संग
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
"आत्मा की वीणा"
Dr. Kishan tandon kranti
हमें
हमें
sushil sarna
In adverse circumstances, neither the behavior nor the festi
In adverse circumstances, neither the behavior nor the festi
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Don't lose a guy that asks for nothing but loyalty, honesty,
Don't lose a guy that asks for nothing but loyalty, honesty,
पूर्वार्थ
🙅सावधान🙅
🙅सावधान🙅
*प्रणय प्रभात*
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
संवेदना मर रही
संवेदना मर रही
Ritu Asooja
"यादें"
Yogendra Chaturwedi
घृणा आंदोलन बन सकती है, तो प्रेम क्यों नहीं?
घृणा आंदोलन बन सकती है, तो प्रेम क्यों नहीं?
Dr MusafiR BaithA
लोग जाम पीना सीखते हैं
लोग जाम पीना सीखते हैं
Satish Srijan
शब्द
शब्द
Sangeeta Beniwal
2455.पूर्णिका
2455.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हवाओं से कह दो, न तूफ़ान लाएं
हवाओं से कह दो, न तूफ़ान लाएं
Neelofar Khan
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ऐ ज़िन्दगी!
ऐ ज़िन्दगी!
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
हिन्दी दोहा बिषय-ठसक
हिन्दी दोहा बिषय-ठसक
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*गम को यूं हलक में  पिया कर*
*गम को यूं हलक में पिया कर*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
शायरी 2
शायरी 2
SURYA PRAKASH SHARMA
जीवन में अँधियारा छाया, दूर तलक सुनसान।
जीवन में अँधियारा छाया, दूर तलक सुनसान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मेरे चेहरे से मेरे किरदार का पता नहीं चलता और मेरी बातों से
मेरे चेहरे से मेरे किरदार का पता नहीं चलता और मेरी बातों से
Ravi Betulwala
काव्य में अलौकिकत्व
काव्य में अलौकिकत्व
कवि रमेशराज
Loading...