Sep 21, 2016 · 1 min read

कभी काया या माया पर नहीं अभिमान तुम करना

कभी काया या माया पर नहीं अभिमान तुम करना
गुणों को ही सदा अपनी यहाँ पहचान तुम करना
हमारे साथ तो केवल हमारे कर्म जाएंगे
मिले हैं हाथ दो हमको उन्हें भगवान तुम करना
डॉ अर्चना गुप्ता

1 Like · 1 Comment · 315 Views
You may also like:
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण
तुम जिंदगी जीते हो।
Taj Mohammad
पर्यावरण और मानव
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
जीने की वजह तो दे
Saraswati Bajpai
* प्रेमी की वेदना *
Dr. Alpa H.
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
पिता के होते कितने ही रूप।
Taj Mohammad
आ जाओ राम।
Anamika Singh
किसान
Shriyansh Gupta
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
सबको हार्दिक शुभकामनाएं !
Prabhudayal Raniwal
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बुलन्द अशआर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
राम नाम ही परम सत्य है।
Anamika Singh
कविराज
Buddha Prakash
मां
Dr. Rajeev Jain
ये जज़्बात कहां से लाते हो।
Taj Mohammad
अखबार ए खास
AJAY AMITABH SUMAN
पितृ स्तुति
yadu.dushyant0
बदलते रिश्ते
पंकज कुमार "कर्ण"
मौत ने कुछ बिगाड़ा नहीं
अरशद रसूल /Arshad Rasool
उपज खोती खेती
विनोद सिल्ला
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
पिता
Deepali Kalra
Loading...