Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

कभी-कभी

कभी-कभी
ढोना पड़ती है
पृथ्वी
अपने ही कंधों पर ।
अपने लिए नहीं,
समाज की
रक्षा के लिए ।
कभी-कभी
बाँधना पड़ता है
आकाश को भी
सीमाओं में ।
क्षितिज के
सौन्दर्य के लिए नहीं ।
आत्मरक्षा के लिए।
कभी-कभी
मापना पड़ती है,
समुद्र की गहराई भी,
आत्मावलोकन या
अहंकार प्रदर्शन
कके लिए नहीं,
बल्कि जीवन के
सौंदर्य की
प्रतिष्ठा के लिए ।
कभी-कभी
वह करना पड़ता है,
जो नहीं करना चाहिए
कभी-कभी ।
कभी-कभी
वह कहना पड़ता है
जो नहीं कहना चाहिए
कभी-कभी।
कभी-कभी
वह सुनना पड़ता है
जो नहीं सुनना चाहिए
कभी-कभी ।
और,यदि वह
न किया जाए
या न कहा जाए
या न सुना जाए , तो
आगे हम
कह ही नहीं सकते
कभी-कभी ।

2 Likes · 4 Comments · 1147 Views
You may also like:
बचपन में थे सवा शेर
VINOD KUMAR CHAUHAN
मां क्यों निष्ठुर?
Saraswati Bajpai
हवाओं को क्या पता
Anuj yadav
✍️कबीरा बोल...✍️
"अशांत" शेखर
तुझे वो कबूल क्यों नहीं हो मैं हूं
Krishan Singh
ठंडे पड़ चुके ये रिश्ते।
Manisha Manjari
"सुन नारी मैं माहवारी"
Dr Meenu Poonia
पिता
Rajiv Vishal
यकीन
Vikas Sharma'Shivaaya'
✍️जिद्द..!✍️
"अशांत" शेखर
सरकारी निजीकरण।
Taj Mohammad
Baby cries.
Taj Mohammad
" अपनी ढपली अपना राग "
Dr Meenu Poonia
बाल वीर हनुमान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खेल-कूद
AMRESH KUMAR VERMA
ऐसा मैं सोचता हूँ
gurudeenverma198
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
हम कहाँ लिख पाते 
Dr. Alpa H. Amin
बादल को पाती लिखी
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
कैसी है ये पीर पराई
VINOD KUMAR CHAUHAN
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
पत्ते ने अगर अपना रंग न बदला होता
Dr. Alpa H. Amin
सारे ही चेहरे कातिल हैं।
Taj Mohammad
सौ प्रतिशत
Dr Archana Gupta
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
गर्भ से बेटी की पुकार
Anamika Singh
पिता
KAMAL THAKUR
फ़ासला
मनोज कर्ण
शायद मुझसा चोर नहीं मिल सकेगा
gurudeenverma198
खूबसूरत एहसास.......
Dr. Alpa H. Amin
Loading...