Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2024 · 1 min read

कभी-कभी ऐसा लगता है

कभी-कभी ऐसा लगता है
कभी-कभी वैसा लगता है
संशय, भय, दुविधा के मारे
बोलें क्या, कैसा लगता है।।
सूर्यकांत

35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
-- दिखावटी लोग --
-- दिखावटी लोग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
*जिंदगी  जीने  का नाम है*
*जिंदगी जीने का नाम है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गुरु ही साक्षात ईश्वर
गुरु ही साक्षात ईश्वर
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
#शुभ_रात्रि
#शुभ_रात्रि
*प्रणय प्रभात*
सपना
सपना
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
प्रेम मे धोखा।
प्रेम मे धोखा।
Acharya Rama Nand Mandal
युवा शक्ति
युवा शक्ति
संजय कुमार संजू
खूब ठहाके लगा के बन्दे !
खूब ठहाके लगा के बन्दे !
Akash Yadav
हर खुशी
हर खुशी
Dr fauzia Naseem shad
ज्ञानी उभरे ज्ञान से,
ज्ञानी उभरे ज्ञान से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खांचे में बंट गए हैं अपराधी
खांचे में बंट गए हैं अपराधी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*
*"देश की आत्मा है हिंदी"*
Shashi kala vyas
Dr. Arun Kumar shastri
Dr. Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वीर बालिका
वीर बालिका
लक्ष्मी सिंह
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
Shyam Sundar Subramanian
"आँखें "
Dr. Kishan tandon kranti
परिवर्तन विकास बेशुमार
परिवर्तन विकास बेशुमार
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
BUTTERFLIES
BUTTERFLIES
Dhriti Mishra
अंधविश्वास का पुल / DR. MUSAFIR BAITHA
अंधविश्वास का पुल / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*मची हैं हर तरफ ऑंसू की, हाहाकार की बातें (हिंदी गजल)*
*मची हैं हर तरफ ऑंसू की, हाहाकार की बातें (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
अंगदान
अंगदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ମାଟିରେ କିଛି ନାହିଁ
ମାଟିରେ କିଛି ନାହିଁ
Otteri Selvakumar
बादल बनके अब आँसू आँखों से बरसते हैं ।
बादल बनके अब आँसू आँखों से बरसते हैं ।
Neelam Sharma
कली को खिलने दो
कली को खिलने दो
Ghanshyam Poddar
प्रकृति हर पल आपको एक नई सीख दे रही है और आपकी कमियों और खूब
प्रकृति हर पल आपको एक नई सीख दे रही है और आपकी कमियों और खूब
Rj Anand Prajapati
पति की खुशी ,लंबी उम्र ,स्वास्थ्य के लिए,
पति की खुशी ,लंबी उम्र ,स्वास्थ्य के लिए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
कारगिल युद्ध के समय की कविता
कारगिल युद्ध के समय की कविता
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जैसे ये घर महकाया है वैसे वो आँगन महकाना
जैसे ये घर महकाया है वैसे वो आँगन महकाना
Dr Archana Gupta
నీవే మా రైతువి...
నీవే మా రైతువి...
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
मां की ममता जब रोती है
मां की ममता जब रोती है
Harminder Kaur
Loading...