Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 17, 2016 · 1 min read

कभी इस पार ,कभी….

कभी इस पार
कभी उस पार,
खिच लेता है
एक दूजे को
बहन-भाई का प्यार
रक्षा बंधन का त्यौहार
चलता रहे,निभता रहे
अमर प्रेम की है गाथा,
बहन भाई के रिश्तों का
अटूट प्यार,
कभी इस पार
कभी उस पार,
खिच लेता है,
एक दूजे को,
बहन भाई का प्यार
रक्षा बंधन का त्यौहार।।

^^^^^^^दिनेश शर्मा^^^^^^^

1 Like · 275 Views
You may also like:
इश्क करते रहिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रफ्तार
Anamika Singh
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
बंदर भैया
Buddha Prakash
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
अनमोल राजू
Anamika Singh
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
अच्छा आहार, अच्छा स्वास्थ्य
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
Loading...