Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Aug 2016 · 1 min read

कभी इस पार ,कभी….

कभी इस पार
कभी उस पार,
खिच लेता है
एक दूजे को
बहन-भाई का प्यार
रक्षा बंधन का त्यौहार
चलता रहे,निभता रहे
अमर प्रेम की है गाथा,
बहन भाई के रिश्तों का
अटूट प्यार,
कभी इस पार
कभी उस पार,
खिच लेता है,
एक दूजे को,
बहन भाई का प्यार
रक्षा बंधन का त्यौहार।।

^^^^^^^दिनेश शर्मा^^^^^^^

Language: Hindi
1 Like · 362 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आप किसी का कर्ज चुका सकते है,
आप किसी का कर्ज चुका सकते है,
Aarti sirsat
आदमी का मानसिक तनाव  इग्नोर किया जाता हैं और उसको ज्यादा तवज
आदमी का मानसिक तनाव इग्नोर किया जाता हैं और उसको ज्यादा तवज
पूर्वार्थ
साधारण दिखो!
साधारण दिखो!
Suraj kushwaha
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
आओ आज तुम्हें मैं सुला दूं
आओ आज तुम्हें मैं सुला दूं
Surinder blackpen
देख लेना चुप न बैठेगा, हार कर भी जीत जाएगा शहर…
देख लेना चुप न बैठेगा, हार कर भी जीत जाएगा शहर…
Anand Kumar
रमेशराज की विरोधरस की मुक्तछंद कविताएँ—2.
रमेशराज की विरोधरस की मुक्तछंद कविताएँ—2.
कवि रमेशराज
एक शे'र
एक शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
नहीं हूं...
नहीं हूं...
Srishty Bansal
टॉम एंड जेरी
टॉम एंड जेरी
Vedha Singh
"महंगाई"
Slok maurya "umang"
शिखर ब्रह्म पर सबका हक है
शिखर ब्रह्म पर सबका हक है
मनोज कर्ण
आज काल के नेता और उनके बेटा
आज काल के नेता और उनके बेटा
Harsh Richhariya
■रोज़ का ड्रामा■
■रोज़ का ड्रामा■
*Author प्रणय प्रभात*
चोट
चोट
आकांक्षा राय
♥️पिता♥️
♥️पिता♥️
Vandna thakur
श्रृंगार करें मां दुल्हन सी, ऐसा अप्रतिम अपरूप लिए
श्रृंगार करें मां दुल्हन सी, ऐसा अप्रतिम अपरूप लिए
Er.Navaneet R Shandily
कहाॅ॑ है नूर
कहाॅ॑ है नूर
VINOD CHAUHAN
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
*पुष्प-मित्र रमेश कुमार जैन की कविताऍं*
*पुष्प-मित्र रमेश कुमार जैन की कविताऍं*
Ravi Prakash
"आज मैंने"
Dr. Kishan tandon kranti
***** सिंदूरी - किरदार ****
***** सिंदूरी - किरदार ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बेरूख़ी के मार से गुलिस्ताँ बंजर होते गए,
बेरूख़ी के मार से गुलिस्ताँ बंजर होते गए,
_सुलेखा.
ओझल मनुआ मोय
ओझल मनुआ मोय
श्रीहर्ष आचार्य
किसी ने अपनी पत्नी को पढ़ाया और पत्नी ने पढ़ लिखकर उसके साथ धो
किसी ने अपनी पत्नी को पढ़ाया और पत्नी ने पढ़ लिखकर उसके साथ धो
ruby kumari
कविता
कविता
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
झुग्गियाँ
झुग्गियाँ
नाथ सोनांचली
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*गीत*
*गीत*
Poonam gupta
Loading...