Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jun 2023 · 1 min read

कब होगी हल ऐसी समस्या

(शेर)- करता हूँ प्रार्थना भगवान से,ऐसा हो अपना भारत।
गाये विश्व गुणगान ऐसे, जय भारत जय जय भारत।।
कोई नहीं हो बेघर, भूखा, बेरोजगार अपने भारत में।
फिर से बने देश विश्वगुरु, फिर से बने अखंड भारत।।
———————————————————
कब होगी हल ऐसी समस्या, यारों अपने देश में।
आयेगा कब रामराज, यारों अपने इस देश में।।
कब होगी हल ऐसी समस्या—————–।।

दो वक़्त की रोटी अभी भी, नहीं मिलती कई परिवारों को।
नसीब नहीं है घर अभी भी, यहाँ पर कई परिवारों को।।
भूखमरी और यह गरीबी, कब होगी दूर देश में।
आयेगा कब रामराज, यारों अपने इस देश में।।
कब होगी हल ऐसी समस्या——————।।

बेरोजगार घूम रहे हैं, पढ़- लिखकर लाखों युवा।
नहीं दे शासन जब रोजगार, तो क्या करें ये युवा।।
कैसे होगी दूर बेरोजगारी, यारों अपने देश में।
आयेगा कब रामराज, यारों अपने इस देश में।।
कब होगी हल ऐसी समस्या——————–।।

लूटपाट और भ्र्ष्टाचार, देश में अभी भी कम नहीं।
दुष्कर्म- हत्यायें रोकने में, मजबूत उठाते कदम नहीं।।
किसके शासन में होगी खत्म, ऐसी समस्या देश में।
आयेगा कब रामराज, यारों अपने इस देश में।।
कब होगी हल ऐसी समस्या———————।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
180 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सत्य की खोज अधूरी है
सत्य की खोज अधूरी है
VINOD CHAUHAN
मुझे मुझसे हीं अब मांगती है, गुजरे लम्हों की रुसवाईयाँ।
मुझे मुझसे हीं अब मांगती है, गुजरे लम्हों की रुसवाईयाँ।
Manisha Manjari
षड्यंत्रों की कमी नहीं है
षड्यंत्रों की कमी नहीं है
Suryakant Dwivedi
■ कितना वदल गया परिवेश।।😢😢
■ कितना वदल गया परिवेश।।😢😢
*प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल (यूँ ज़िन्दगी में आपके आने का शुक्रिया)
ग़ज़ल (यूँ ज़िन्दगी में आपके आने का शुक्रिया)
डॉक्टर रागिनी
My Chic Abuela🤍
My Chic Abuela🤍
Natasha Stephen
कुछ नया लिखना है आज
कुछ नया लिखना है आज
करन ''केसरा''
आदिवासी होकर जीना सरल नहीं
आदिवासी होकर जीना सरल नहीं
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
जीवन अनंत की यात्रा है और अनंत में विलीन होना ही हमारी मंजिल
जीवन अनंत की यात्रा है और अनंत में विलीन होना ही हमारी मंजिल
Priyank Upadhyay
मेरी पेशानी पे तुम्हारा अक्स देखकर लोग,
मेरी पेशानी पे तुम्हारा अक्स देखकर लोग,
Shreedhar
*....आज का दिन*
*....आज का दिन*
Naushaba Suriya
5) “पूनम का चाँद”
5) “पूनम का चाँद”
Sapna Arora
गीत
गीत
Kanchan Khanna
दीप्ति
दीप्ति
Kavita Chouhan
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
मेरे विचार
मेरे विचार
Anju
और भी शौक है लेकिन, इश्क तुम नहीं करो
और भी शौक है लेकिन, इश्क तुम नहीं करो
gurudeenverma198
हिंदी - दिवस
हिंदी - दिवस
Ramswaroop Dinkar
मुझे तुम मिल जाओगी इतना विश्वास था
मुझे तुम मिल जाओगी इतना विश्वास था
Keshav kishor Kumar
*प्यार या एहसान*
*प्यार या एहसान*
Harminder Kaur
बह्र - 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन
बह्र - 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन
Neelam Sharma
"आओ मिलकर दीप जलायें "
Chunnu Lal Gupta
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
11कथा राम भगवान की, सुनो लगाकर ध्यान
11कथा राम भगवान की, सुनो लगाकर ध्यान
Dr Archana Gupta
विघ्नेश्वराय वरदाय सुरप्रियाय लम्बोदराय सकलाय जगद्धितायं।
विघ्नेश्वराय वरदाय सुरप्रियाय लम्बोदराय सकलाय जगद्धितायं।
Shashi Dhar Kumar
*संसार में कितनी भॅंवर, कितनी मिलीं मॅंझधार हैं (हिंदी गजल)*
*संसार में कितनी भॅंवर, कितनी मिलीं मॅंझधार हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मीना
मीना
Shweta Soni
"पाठशाला"
Dr. Kishan tandon kranti
वक्त
वक्त
Shyam Sundar Subramanian
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...