Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2019 · 1 min read

कब मैंने चाहा सजन

कब मैनें चाहा सजन, मिले नौलखा हार।
देना है तो दिजिए, थोड़ा समय उधार।।

समय तुझे मिलता नहीं,पल भर बैठे पास।
कैसे समझोगे भला, मैं क्यों हुई उदास।।

रूठी हूँ मैं इसलिए, मिले तुम्हारा प्यार।
हीरे मोती का नहीं, हो बाँहों का हार।।

तुम बिन फीका साजना, ये सोलह शृंगार।
तुम पर पड़ते ही नजर, बढ़ता रूप निखार।।

तुम बिन लगता है सजन,सुना-सुना घर-द्वार।
मृत्यु तुल्य जीवन लगे,साँसे लगती भार।।

-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

4 Likes · 2 Comments · 345 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
आँखों का कोना एक बूँद से ढँका देखा  है मैंने
आँखों का कोना एक बूँद से ढँका देखा है मैंने
शिव प्रताप लोधी
इंसान और कुता
इंसान और कुता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
🌹ढ़ूढ़ती हूँ अक्सर🌹
🌹ढ़ूढ़ती हूँ अक्सर🌹
Dr Shweta sood
देखा तुम्हें सामने
देखा तुम्हें सामने
Harminder Kaur
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
मन के सवालों का जवाब नाही
मन के सवालों का जवाब नाही
भरत कुमार सोलंकी
3419⚘ *पूर्णिका* ⚘
3419⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुझे याद आता है मेरा गांव
मुझे याद आता है मेरा गांव
Adarsh Awasthi
Just try
Just try
पूर्वार्थ
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वर्षा
वर्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिन्दगी की पाठशाला
जिन्दगी की पाठशाला
Ashokatv
"सत्य"
Dr. Kishan tandon kranti
शिक्षार्थी को एक संदेश🕊️🙏
शिक्षार्थी को एक संदेश🕊️🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कोशिश करना छोरो मत,
कोशिश करना छोरो मत,
Ranjeet kumar patre
ईश्वर की कृपा दृष्टि व बड़े बुजुर्ग के आशीर्वाद स्वजनों की द
ईश्वर की कृपा दृष्टि व बड़े बुजुर्ग के आशीर्वाद स्वजनों की द
Shashi kala vyas
*नेता जी के घर मिले, नोटों के अंबार (कुंडलिया)*
*नेता जी के घर मिले, नोटों के अंबार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बच्चे थिरक रहे हैं आँगन।
बच्चे थिरक रहे हैं आँगन।
लक्ष्मी सिंह
जिनसे ये जीवन मिला, कहे उन्हीं को भार।
जिनसे ये जीवन मिला, कहे उन्हीं को भार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
निराशा क्यों?
निराशा क्यों?
Sanjay ' शून्य'
नज़र नज़र का फर्क है साहेब...!!
नज़र नज़र का फर्क है साहेब...!!
Vishal babu (vishu)
हर एक भाषण में दलीलें लाखों होती है
हर एक भाषण में दलीलें लाखों होती है
कवि दीपक बवेजा
बुंदेली दोहा- जंट (मजबूत)
बुंदेली दोहा- जंट (मजबूत)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
वो दिल लगाकर मौहब्बत में अकेला छोड़ गये ।
वो दिल लगाकर मौहब्बत में अकेला छोड़ गये ।
Phool gufran
मैं अपने आप को समझा न पाया
मैं अपने आप को समझा न पाया
Manoj Mahato
तेरे इश्क़ में थोड़े घायल से हैं,
तेरे इश्क़ में थोड़े घायल से हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जिंदगी की किताब
जिंदगी की किताब
Surinder blackpen
मजबूरियां थी कुछ हमारी
मजबूरियां थी कुछ हमारी
gurudeenverma198
Natasha is my Name!
Natasha is my Name!
Natasha Stephen
Loading...