Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jul 2023 · 1 min read

कड़वा सच~

कड़वा सच~

तात के मुख से ‘ना’ नहीं निकलती है कभी, परंतु आजकल के पुत्रों के मुख से ‘ना’ निकलते देर नहीं लगती।

दिनेश एल० “जैहिंद”

239 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3043.*पूर्णिका*
3043.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हिटलर ने भी माना सुभाष को महान
हिटलर ने भी माना सुभाष को महान
कवि रमेशराज
■ भाषा संस्कारों का दर्पण भी होती है श्रीमान!!
■ भाषा संस्कारों का दर्पण भी होती है श्रीमान!!
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
हकीकत
हकीकत
Dr. Seema Varma
*पानी केरा बुदबुदा*
*पानी केरा बुदबुदा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
" शिक्षक "
Pushpraj Anant
तुम्हारे महबूब के नाजुक ह्रदय की तड़पती नसों की कसम।
तुम्हारे महबूब के नाजुक ह्रदय की तड़पती नसों की कसम।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मूल्यों में आ रही गिरावट समाधान क्या है ?
मूल्यों में आ रही गिरावट समाधान क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
जय अयोध्या धाम की
जय अयोध्या धाम की
Arvind trivedi
मै ना सुनूंगी
मै ना सुनूंगी
भरत कुमार सोलंकी
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
Shekhar Chandra Mitra
मर्द रहा
मर्द रहा
Kunal Kanth
हार नहीं, हौसले की जीत
हार नहीं, हौसले की जीत
पूर्वार्थ
संवेदनहीनता
संवेदनहीनता
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बे-आवाज़. . . .
बे-आवाज़. . . .
sushil sarna
प्यार की कस्ती पे
प्यार की कस्ती पे
Surya Barman
दूध बन जाता है पानी
दूध बन जाता है पानी
कवि दीपक बवेजा
सच अति महत्वपूर्ण यह,
सच अति महत्वपूर्ण यह,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
और ज़रा भी नहीं सोचते हम
और ज़रा भी नहीं सोचते हम
Surinder blackpen
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
1-कैसे विष मज़हब का फैला, मानवता का ह्रास हुआ
1-कैसे विष मज़हब का फैला, मानवता का ह्रास हुआ
Ajay Kumar Vimal
"वो पूछता है"
Dr. Kishan tandon kranti
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रश्न
प्रश्न
Dr MusafiR BaithA
*जीता हमने चंद्रमा, खोज चल रही नित्य (कुंडलिया )*
*जीता हमने चंद्रमा, खोज चल रही नित्य (कुंडलिया )*
Ravi Prakash
बिडम्बना
बिडम्बना
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कैसे गाएँ गीत मल्हार
कैसे गाएँ गीत मल्हार
संजय कुमार संजू
एक शख्स
एक शख्स
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
क्या क्या बदले
क्या क्या बदले
Rekha Drolia
Loading...