Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Oct 2022 · 1 min read

कई सूर्य अस्त हो जाते हैं

कई सूर्य अस्त हो जाते हैं ,
जब भोर निशा बन जाती है !

निशा से लड़ करके ही तो
भोर सुबह – दिखलाती है !!

संघर्ष – भरी यह जीत है ,
हर शख्स को आजमाती है!

कुछ मार्ग में रह जाते हैं ,
कुछ को पार लगाती है !!

यह जीत इतनी सहज कहा ,
कई हार ‘हार के’ पहनाती है !

जो जिद पर अडियल रहता है
उसको ये शिखर दिलाती है !!

✍कवि दीपक सरल

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 198 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुछ नींदों से ख़्वाब उड़ जाते हैं
कुछ नींदों से ख़्वाब उड़ जाते हैं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
खंडहर
खंडहर
Tarkeshwari 'sudhi'
आंखों से बयां नहीं होते
आंखों से बयां नहीं होते
Harminder Kaur
ओ मेरे गणपति महेश
ओ मेरे गणपति महेश
Swami Ganganiya
"कलम की अभिलाषा"
Yogendra Chaturwedi
Forget and Forgive Solve Many Problems
Forget and Forgive Solve Many Problems
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
किसी का खौफ नहीं, मन में..
किसी का खौफ नहीं, मन में..
अरशद रसूल बदायूंनी
जनपक्षधरता के कालजयी कवि रमेश रंजक :/-- ईश्वर दयाल गोस्वामी
जनपक्षधरता के कालजयी कवि रमेश रंजक :/-- ईश्वर दयाल गोस्वामी
ईश्वर दयाल गोस्वामी
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ज़िंदगी में एक बार रोना भी जरूरी है
ज़िंदगी में एक बार रोना भी जरूरी है
Jitendra Chhonkar
*वह भी क्या दिन थे : बारात में नखरे करने के 【हास्य-व्यंग्य 】
*वह भी क्या दिन थे : बारात में नखरे करने के 【हास्य-व्यंग्य 】
Ravi Prakash
पिता
पिता
लक्ष्मी सिंह
होते वो जो हमारे पास ,
होते वो जो हमारे पास ,
श्याम सिंह बिष्ट
रामायण में भाभी
रामायण में भाभी "माँ" के समान और महाभारत में भाभी "पत्नी" के
शेखर सिंह
कब मरा रावण
कब मरा रावण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
किसे फर्क पड़ता है
किसे फर्क पड़ता है
Sangeeta Beniwal
💐प्रेम कौतुक-236💐
💐प्रेम कौतुक-236💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
किरदार हो या
किरदार हो या
Mahender Singh
बहुत कुछ पढ़ लिया तो क्या ऋचाएं पढ़ के देखो।
बहुत कुछ पढ़ लिया तो क्या ऋचाएं पढ़ के देखो।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
घाटे का सौदा
घाटे का सौदा
विनोद सिल्ला
जीवन और बांसुरी दोनों में होल है पर धुन पैदा कर सकते हैं कौन
जीवन और बांसुरी दोनों में होल है पर धुन पैदा कर सकते हैं कौन
Shashi kala vyas
प्रिय मैं अंजन नैन लगाऊँ।
प्रिय मैं अंजन नैन लगाऊँ।
Anil Mishra Prahari
बलात्कार
बलात्कार
rkchaudhary2012
फितरत बदल रही
फितरत बदल रही
Basant Bhagawan Roy
जिंदगी हमने जी कब,
जिंदगी हमने जी कब,
Umender kumar
स्वार्थ
स्वार्थ
Sushil chauhan
एक फूल
एक फूल
Anil "Aadarsh"
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
कवि रमेशराज
Loading...