Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2023 · 1 min read

कंठ तक जल में गड़ा, पर मुस्कुराता है कमल ।

कंठ तक जल में गड़ा, पर मुस्कुराता है कमल ।
तब कहीं संसार को इतना लुभाता है कमल ।
चूमकर किरणों ने जाने क्या सुबह था कह दिया ,
शाम तक बिल्कुल नहीं पलकें झुकता है कमल ।
ताल मिटते जा रहे हैं अब कहाँ जाकर खिले ,
आँसुओं की झील में ही झिलमिलाता है कमल ।
रूप की आराधना में साथ कवियों का दिया ,
सुन्दरी की श्याम अलकों को सजाता है कमल ।
पी गया है शान से जो गर्दिशों की धूप को ,
ज़िन्दगी का फ़लसफ़ा सबको सिखाता है कमल ।
साथ रोटी के, शहीदों का बना सम्बल कभी,
राष्ट्र की आराधना के गीत गाता है कमल ।

2 Likes · 203 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
" जुदाई "
Aarti sirsat
कम साधन में साधते, बड़े-बड़े जो काज।
कम साधन में साधते, बड़े-बड़े जो काज।
डॉ.सीमा अग्रवाल
शुभ दिन सब मंगल रहे प्रभु का हो वरदान।
शुभ दिन सब मंगल रहे प्रभु का हो वरदान।
सत्य कुमार प्रेमी
विकल्प
विकल्प
Sanjay ' शून्य'
কেণো তুমি অবহেলনা করো
কেণো তুমি অবহেলনা করো
DrLakshman Jha Parimal
"बताओ"
Dr. Kishan tandon kranti
जल उठी है फिर से आग नफ़रतों की ....
जल उठी है फिर से आग नफ़रतों की ....
shabina. Naaz
संस्कारों और वीरों की धरा...!!!!
संस्कारों और वीरों की धरा...!!!!
Jyoti Khari
बे-असर
बे-असर
Sameer Kaul Sagar
पुरानी यादें ताज़ा कर रही है।
पुरानी यादें ताज़ा कर रही है।
Manoj Mahato
अधर्म का उत्पात
अधर्म का उत्पात
Dr. Harvinder Singh Bakshi
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
Sahil Ahmad
तू  फितरत ए  शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
Dr Tabassum Jahan
When the ways of this world are, but
When the ways of this world are, but
Dhriti Mishra
आस पड़ोस का सब जानता है..
आस पड़ोस का सब जानता है..
कवि दीपक बवेजा
*दबाए मुँह में तम्बाकू, ये पीकें थूके जाते हैं (हास्य मुक्तक)*
*दबाए मुँह में तम्बाकू, ये पीकें थूके जाते हैं (हास्य मुक्तक)*
Ravi Prakash
हिंदी दोहा- महावीर
हिंदी दोहा- महावीर
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"अवध में राम आये हैं"
Ekta chitrangini
फिर से आंखों ने
फिर से आंखों ने
Dr fauzia Naseem shad
2801. *पूर्णिका*
2801. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रिसाय के उमर ह , मनाए के जनम तक होना चाहि ।
रिसाय के उमर ह , मनाए के जनम तक होना चाहि ।
Lakhan Yadav
राजस्थान
राजस्थान
Anil chobisa
अर्थव्यवस्था और देश की हालात
अर्थव्यवस्था और देश की हालात
Mahender Singh
#अनुभूत_अभिव्यक्ति
#अनुभूत_अभिव्यक्ति
*Author प्रणय प्रभात*
खिलेंगे फूल राहों में
खिलेंगे फूल राहों में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"मौत की सजा पर जीने की चाह"
Pushpraj Anant
⚘*अज्ञानी की कलम*⚘
⚘*अज्ञानी की कलम*⚘
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
💐प्रेम कौतुक-500💐
💐प्रेम कौतुक-500💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरे प्रेम पत्र
मेरे प्रेम पत्र
विजय कुमार नामदेव
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
Loading...