Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Aug 2023 · 1 min read

और ज़रा भी नहीं सोचते हम

और ज़रा भी नहीं सोचते हम,
क्या उस पर गुजरी होगी।
बोल देते हैं तपाक् से….
करती क्या हो तुम सारा दिन?
मां बाप ने कुछ सिखा कर नहीं भेजा?
मोबाइल से फुर्सत मिले तब ना..
उसकी भी नम होती हैं आंखें
उसका भी टूटता है दिल
बस आंखों पलकों पर छुपा
वो फिर काम करने लग जाती है
और ज़रा भी नहीं सोचते हम….
वो भी थकती है
आपके घर को मकान बनाने
आपके वंश को आगे बढ़ाने
अपना नया संसार सजाने
सिर्फ एक तुम्हारा हाथ थाम
तुम्हारे सारे रिश्तों के कर्ज चुकाने
आ जाती है अपने बाबा का घर छोड़
ये सब बोलने से पहले
ज़रा भी नहीं सोचते हम..
तुम अगर ससुराल दो दिन रहो
मज़बूरी में ही सास ससुर को
का अस्पताल लिजाना
या फिर कोई काम वो तुम्हे बोले
तो मुंह में बोलते रहते हो
क्या यार कहां आकर फंस गया।
नौकर ही बना के रख दिया।
सोचा था दो दिन आराम करूंगा
तो क्या ये हक सिर्फ तुम्हारा है
उसका नहीं ,जिसको हमेशा ससुराल में ही रहना है
और ज़रा भी नहीं सोचते हम
सच में नहीं सोचते हम।

सुरिंदर कौर

Language: Hindi
121 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
वो तसव्वर ही क्या जिसमें तू न हो
वो तसव्वर ही क्या जिसमें तू न हो
Mahendra Narayan
दंगे-फसाद
दंगे-फसाद
Shekhar Chandra Mitra
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
Neelam Sharma
*चुनाव से पहले नेता जी बातों में तार गए*
*चुनाव से पहले नेता जी बातों में तार गए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
वो आदनी सस्ता या हल्का
वो आदनी सस्ता या हल्का
*Author प्रणय प्रभात*
★फसल किसान की जान हिंदुस्तान की★
★फसल किसान की जान हिंदुस्तान की★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
"असफलता"
Dr. Kishan tandon kranti
*दो दिन फूल खिला डाली पर, मुस्काकर मुरझाया (गीत)*
*दो दिन फूल खिला डाली पर, मुस्काकर मुरझाया (गीत)*
Ravi Prakash
मेले
मेले
Punam Pande
जो चाहो यदि वह मिले,
जो चाहो यदि वह मिले,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐प्रेम कौतुक-526💐
💐प्रेम कौतुक-526💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चींटी रानी
चींटी रानी
Dr Archana Gupta
रिश्तो की कच्ची डोर
रिश्तो की कच्ची डोर
Harminder Kaur
🥀*✍अज्ञानी की*🥀
🥀*✍अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हर बात पे ‘अच्छा’ कहना…
हर बात पे ‘अच्छा’ कहना…
Keshav kishor Kumar
मेरा सुकून
मेरा सुकून
Umesh Kumar Sharma
एतबार इस जमाने में अब आसान नहीं रहा,
एतबार इस जमाने में अब आसान नहीं रहा,
manjula chauhan
दो खग उड़े गगन में , प्रेम करते होंगे क्या ?
दो खग उड़े गगन में , प्रेम करते होंगे क्या ?
The_dk_poetry
सुखी होने में,
सुखी होने में,
Sangeeta Beniwal
कान्हा भजन
कान्हा भजन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2697.*पूर्णिका*
2697.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
For a thought, you're eternity
For a thought, you're eternity
पूर्वार्थ
"ईश्वर की गति"
Ashokatv
ज़िंदगी का नशा
ज़िंदगी का नशा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अनिल
अनिल "आदर्श "
Anil "Aadarsh"
हमें दुख देकर खुश हुए थे आप
हमें दुख देकर खुश हुए थे आप
ruby kumari
नमस्कार मित्रो !
नमस्कार मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
घर आये हुये मेहमान का अनादर कभी ना करना.......
घर आये हुये मेहमान का अनादर कभी ना करना.......
shabina. Naaz
কি?
কি?
Otteri Selvakumar
उनकी नाराज़गी से हमें बहुत दुःख हुआ
उनकी नाराज़गी से हमें बहुत दुःख हुआ
Govind Kumar Pandey
Loading...