Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Nov 5, 2016 · 1 min read

औरत

निकलती है ज्यों ही औरत कमाने को
आ जाते है सभी,हाथ आजमाने को

कभी मित्रता, कभी मदद के बहाने
खोजते है रास्ते उसे बहकाने को

कभी तंज,कभी अश्लील टिप्पणियो से
करते है प्रयास उसका मनोबल गिराने को

नही मानती हार,नही झुकती जब औरत
तन जाते है उसकी अस्मिता मिटाने को

बहन ,बेटी उनके घरो मे भी तो होगीं
कैसे आती है हिम्मत, उनसे नजर मिलाने को

ना करेगी समझौता,झुकेगी न हारेगी
औरत नही कोई वस्तु,बता देगी जमाने को

कहती है प्रीति,सिर के ऊपर हुआ जो पानी
वक्त ना लगेगा दुर्गा से चण्डी बन जाने को

1 Comment · 379 Views
You may also like:
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
पिता
Aruna Dogra Sharma
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
मेरे साथी!
Anamika Singh
आदर्श पिता
Sahil
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
Loading...