Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jan 2024 · 1 min read

ओ परबत के मूल निवासी

ओ परबत के मूल निवासी
ओ परबत के मूल निवासी, भोले भाले शिव कैलाशी।
जब जब होता व्याकुल जग से, तब तुझको देखे अविनाशी।
भव तम को मन मुड़ जाता हैं ,घन जग बंधन जुड़ जाता हैं।
अंधकार तब होता डग में , काँटे बिछ जाते हैं पग में।
विचलित मन अब तुझे पुकारे, तमस हरो हे अपरिभाषी।
ओ परबत के मूल निवासी,भोले भाले शिव कैलाशी।
शिव शक्ति हीं राह हमारी, शिव की भक्ति चाह हमारी।
एक लक्ष्य हीं मेरा तय हो ,शिव कदमों में निजमन लय हो।
यही चाह ले इत उत घुमुं , अमरनाथ बदरीनाथ काशी।
ओ परबत के मूल निवासी,भोले भाले शिव कैलाशी।
अजय अमिताभ सुमन

1 Like · 100 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेचारा जमीर ( रूह की मौत )
बेचारा जमीर ( रूह की मौत )
ओनिका सेतिया 'अनु '
सबके सामने रहती है,
सबके सामने रहती है,
लक्ष्मी सिंह
"सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
*The Bus Stop*
*The Bus Stop*
Poonam Matia
असफलता का घोर अन्धकार,
असफलता का घोर अन्धकार,
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
बड़े इत्मीनान से सो रहे हो,
बड़े इत्मीनान से सो रहे हो,
Buddha Prakash
स्वयं से सवाल
स्वयं से सवाल
आनन्द मिश्र
" जीवन है गतिमान "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
राम है आये!
राम है आये!
Bodhisatva kastooriya
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
Paras Nath Jha
कतौता
कतौता
डॉ० रोहित कौशिक
ऐ भाई - दीपक नीलपदम्
ऐ भाई - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मां (संस्मरण)
मां (संस्मरण)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*रद्दी अगले दिन हुआ, मूल्यवान अखबार (कुंडलिया)*
*रद्दी अगले दिन हुआ, मूल्यवान अखबार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
गुज़िश्ता साल
गुज़िश्ता साल
Dr.Wasif Quazi
पूर्णिमा का चाँद
पूर्णिमा का चाँद
Neeraj Agarwal
National Energy Conservation Day
National Energy Conservation Day
Tushar Jagawat
2774. *पूर्णिका*
2774. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यह गोकुल की गलियां,
यह गोकुल की गलियां,
कार्तिक नितिन शर्मा
दीवाली
दीवाली
Mukesh Kumar Sonkar
*गुड़िया प्यारी राज दुलारी*
*गुड़िया प्यारी राज दुलारी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हिन्दी हाइकु
हिन्दी हाइकु
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
◆बात बनारसियों◆
◆बात बनारसियों◆
*Author प्रणय प्रभात*
मूडी सावन
मूडी सावन
Sandeep Pande
* उपहार *
* उपहार *
surenderpal vaidya
प्रेम की डोर सदैव नैतिकता की डोर से बंधती है और नैतिकता सत्क
प्रेम की डोर सदैव नैतिकता की डोर से बंधती है और नैतिकता सत्क
Sanjay ' शून्य'
फागुनी धूप, बसंती झोंके
फागुनी धूप, बसंती झोंके
Shweta Soni
जुनून
जुनून
नवीन जोशी 'नवल'
-शेखर सिंह
-शेखर सिंह
शेखर सिंह
Loading...