Oct 16, 2016 · 2 min read

ओढ़ तिरंगे को

ओढ़ तिरंगे को क्यों पापा आये है?

माँ ! मेरा मन, क्यों समझ न पाये है?

पापा मुन्ना मुन्ना ,कहते आते थे,

टॉफियाँ खिलौने भीे, साथ में लाते थे।

गोदी में उठा के मुझे,खूब खिलाते थे,

हाथ फेर सर पे, प्यार भी जताते थे।

पर आज न जाने क्यों ,वह चुप हो गए हैँ,

लगता है कि आज वह,गहरी नींद सो गए हैं ।

नींद से उठो पापा ,मुन्ना बुलाये है,

ओढ़ तिरंगे को क्यों पापा आये है?

फौजी अंकल की भीड़ ,घर पर क्यों आई है?

पापा का सामान भी,क्यों साथ में लाई है?

वह मेडलों के हार ,क्यों साथ में लाई है,

हर आँख में आंसू क्यों,भर कर लाई है।

चाचा, मामा ,दादा ,दादी हैं चीखते क्यों?

मेरी माँ तू ही बता ,वे सर हैं पीटते क्यों?

गाँव क्यों पापा को ,शहीद बताये है,

ओढ़ तिरंगे को क्यों पापा आये है?

माँ क्यों इतना रोती ,ये बात बता दे मुझे,

हर पल क्यों होश खोती, यह समझा दे मुझे।

माथे का सिन्दूर क्यों ,दादीजी पोंछती हैं,

लाल चूड़ी हाँथ की क्यों ,बुआजी तोड़ती हैं।

काले मोतियन की माला, क्यों तुमने उतारी है,

क्या तुझे हो गया माँ ,समझना भारी है।

माँ तेरा ये रूप, मुझे न सुहाये है,

ओढ़ तिरंगे को क्यों ,पापा आये है?

पापा कहाँ जा रहे अब, ये बतलाओ माँ,

चुपचाप बहा के आंसू,यूँ न सताओ माँ ।

क्यो उनको उठा रहे सब, हाथो को बांध करके,

जय हिन्द बोलते क्यों,कन्धों पे लाद करके।

दादी खड़ी है क्यों ,भला आँचल को भींच करके।

आंसू बहे जा रहे क्यों,आँखों को मींच करके।

पापा की राह में क्यौ, ये फूल सजाये है।

ओढ़ तिरंगे को क्यों पापा आये है?

लकड़ियों के बीच में क्यों ,पापा को लिटाये है।

सब कह रहे उनको लेने,श्रीरामजी आये है।

पापा! दादाजी कह रहे हैं,तुम्हें जलाऊँ मैं।

बोलो भला इस आग को ,कैसे लगाऊं मैं।

इस आग में भस्म होके ,साथ छोड़ जाओगे।

आँखों में आंसू होंगे, बहुत याद आओगे।

अब आया समझ में माँ ने ,क्योंआँसू बहाये थे।

ओढ़ तिरंगा क्यों ,पापा घर आये थे ।

551 Views
You may also like:
//स्वागत है:२०२२//
Prabhudayal Raniwal
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ७]
Anamika Singh
कुछ ख़ास करते है।
Taj Mohammad
नारियल
Buddha Prakash
यह कैसा एहसास है
Anuj yadav
कितनी पीड़ा कितने भागीरथी
सूर्यकांत द्विवेदी
आ लौट के आजा घनश्याम
Ram Krishan Rastogi
पहाड़ों की रानी
Shailendra Aseem
हे विधाता शरण तेरी
Saraswati Bajpai
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
मातृ रूप
श्री रमण
गढ़वाली चित्रकार मौलाराम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
कितनी सुंदरता पहाड़ो में हैं भरी.....
Dr. Alpa H.
ग़ज़ल
Anis Shah
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
टूटता तारा
Anamika Singh
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
बुलंद सोच
Dr. Alpa H.
दिले यार ना मिलते हैं।
Taj Mohammad
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
उबारो हे शंकर !
Shailendra Aseem
प्रेम...
Sapna K S
पहचान लेना तुम।
Taj Mohammad
हिंसा की आग 🔥
मनोज कर्ण
अथर्व को जन्म दिन की शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
देवदूत डॉक्टर
Buddha Prakash
कोमल एहसास प्यार का....
Dr. Alpa H.
कभी मिट्टी पर लिखा था तेरा नाम
Krishan Singh
पिता का महत्व
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...