Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Oct 2016 · 2 min read

ओढ़ तिरंगे को

ओढ़ तिरंगे को क्यों पापा आये है?

माँ ! मेरा मन, क्यों समझ न पाये है?

पापा मुन्ना मुन्ना ,कहते आते थे,

टॉफियाँ खिलौने भीे, साथ में लाते थे।

गोदी में उठा के मुझे,खूब खिलाते थे,

हाथ फेर सर पे, प्यार भी जताते थे।

पर आज न जाने क्यों ,वह चुप हो गए हैँ,

लगता है कि आज वह,गहरी नींद सो गए हैं ।

नींद से उठो पापा ,मुन्ना बुलाये है,

ओढ़ तिरंगे को क्यों पापा आये है?

फौजी अंकल की भीड़ ,घर पर क्यों आई है?

पापा का सामान भी,क्यों साथ में लाई है?

वह मेडलों के हार ,क्यों साथ में लाई है,

हर आँख में आंसू क्यों,भर कर लाई है।

चाचा, मामा ,दादा ,दादी हैं चीखते क्यों?

मेरी माँ तू ही बता ,वे सर हैं पीटते क्यों?

गाँव क्यों पापा को ,शहीद बताये है,

ओढ़ तिरंगे को क्यों पापा आये है?

माँ क्यों इतना रोती ,ये बात बता दे मुझे,

हर पल क्यों होश खोती, यह समझा दे मुझे।

माथे का सिन्दूर क्यों ,दादीजी पोंछती हैं,

लाल चूड़ी हाँथ की क्यों ,बुआजी तोड़ती हैं।

काले मोतियन की माला, क्यों तुमने उतारी है,

क्या तुझे हो गया माँ ,समझना भारी है।

माँ तेरा ये रूप, मुझे न सुहाये है,

ओढ़ तिरंगे को क्यों ,पापा आये है?

पापा कहाँ जा रहे अब, ये बतलाओ माँ,

चुपचाप बहा के आंसू,यूँ न सताओ माँ ।

क्यो उनको उठा रहे सब, हाथो को बांध करके,

जय हिन्द बोलते क्यों,कन्धों पे लाद करके।

दादी खड़ी है क्यों ,भला आँचल को भींच करके।

आंसू बहे जा रहे क्यों,आँखों को मींच करके।

पापा की राह में क्यौ, ये फूल सजाये है।

ओढ़ तिरंगे को क्यों पापा आये है?

लकड़ियों के बीच में क्यों ,पापा को लिटाये है।

सब कह रहे उनको लेने,श्रीरामजी आये है।

पापा! दादाजी कह रहे हैं,तुम्हें जलाऊँ मैं।

बोलो भला इस आग को ,कैसे लगाऊं मैं।

इस आग में भस्म होके ,साथ छोड़ जाओगे।

आँखों में आंसू होंगे, बहुत याद आओगे।

अब आया समझ में माँ ने ,क्योंआँसू बहाये थे।

ओढ़ तिरंगा क्यों ,पापा घर आये थे ।

Language: Hindi
868 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*दादी की बहादुरी(कहानी)*
*दादी की बहादुरी(कहानी)*
Dushyant Kumar
यह जीवन अनमोल रे
यह जीवन अनमोल रे
विजय कुमार अग्रवाल
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
कुछ बीते हुए पल -बीते हुए लोग जब कुछ बीती बातें
कुछ बीते हुए पल -बीते हुए लोग जब कुछ बीती बातें
Atul "Krishn"
Ye chad adhura lagta hai,
Ye chad adhura lagta hai,
Sakshi Tripathi
अश्रुऔ की धारा बह रही
अश्रुऔ की धारा बह रही
Harminder Kaur
THE SUN
THE SUN
SURYA PRAKASH SHARMA
अपनी सरहदें जानते है आसमां और जमीन...!
अपनी सरहदें जानते है आसमां और जमीन...!
Aarti sirsat
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Phool gufran
भर गया होगा
भर गया होगा
Dr fauzia Naseem shad
कितनी प्यारी प्रकृति
कितनी प्यारी प्रकृति
जगदीश लववंशी
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
क्षणभंगुर
क्षणभंगुर
Vivek Pandey
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🌹🌹🌹फितरत 🌹🌹🌹
🌹🌹🌹फितरत 🌹🌹🌹
umesh mehra
#कौन_देगा_जवाब??
#कौन_देगा_जवाब??
*प्रणय प्रभात*
उम्मीद का दामन।
उम्मीद का दामन।
Taj Mohammad
हिन्दी की दशा
हिन्दी की दशा
श्याम लाल धानिया
" बस तुम्हें ही सोचूँ "
Pushpraj Anant
नज़ाकत को शराफ़त से हरा दो तो तुम्हें जानें
नज़ाकत को शराफ़त से हरा दो तो तुम्हें जानें
आर.एस. 'प्रीतम'
ड्यूटी
ड्यूटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चीर हरण ही सोचते,
चीर हरण ही सोचते,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
3221.*पूर्णिका*
3221.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"ऊर्जा"
Dr. Kishan tandon kranti
🕊️एक परिंदा उड़ चला....!
🕊️एक परिंदा उड़ चला....!
Srishty Bansal
*दादा जी डगमग चलते हैं (बाल कविता)*
*दादा जी डगमग चलते हैं (बाल कविता)*
Ravi Prakash
प्रद्त छन्द- वासन्ती (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी- गागागा गागाल, ललल गागागा गागा। (14 वर्ण) अंकावली- 222 221, 111 222 22. पिंगल सूत्र- मगण तगण नगण मगण गुरु गुरु।
प्रद्त छन्द- वासन्ती (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी- गागागा गागाल, ललल गागागा गागा। (14 वर्ण) अंकावली- 222 221, 111 222 22. पिंगल सूत्र- मगण तगण नगण मगण गुरु गुरु।
Neelam Sharma
थर्मामीटर / मुसाफ़िर बैठा
थर्मामीटर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
कितना आसान है मां कहलाना,
कितना आसान है मां कहलाना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...