Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2023 · 1 min read

ऐ सावन अब आ जाना

सावन जो तू आया ही है
मेरे घर भी आ जाना ।
रिमझिम रिमझिम तृप्ति बूंद कुछ
मेरे घर बरसा जाना ।
कब से सूना रिक्त पड़ा घर
अतिथि कोई भी आया ना ।
तू अपने टिप – टिप कदमों से
कोई अनहद नाद बजा जाना ।
ऐ सावन यदि न आया तू
ये हृदय सूख सब जायेगा ।
सामर्थ्य वपन की खोकर फिर
अस्तित्व मरू हो जायेगा ।
धू-धू कर चिता जलेंगी सब
रह-रहकर मेरे स्वप्नों की ।
मर्मान्तक दृश्य मेरे उर का
जीवन कैसे लख पायेगा ?

Language: Hindi
1 Like · 165 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Saraswati Bajpai
View all
You may also like:
इश्क़ में
इश्क़ में
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*गुरु (बाल कविता)*
*गुरु (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कड़वा सच
कड़वा सच
Jogendar singh
"सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
सज्ज अगर न आज होगा....
सज्ज अगर न आज होगा....
डॉ.सीमा अग्रवाल
जो सबका हों जाए, वह हम नहीं
जो सबका हों जाए, वह हम नहीं
Chandra Kanta Shaw
🇭🇺 श्रीयुत अटल बिहारी जी
🇭🇺 श्रीयुत अटल बिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
समझौते की कुछ सूरत देखो
समझौते की कुछ सूरत देखो
sushil yadav
Whenever My Heart finds Solitude
Whenever My Heart finds Solitude
कुमार
शाम उषा की लाली
शाम उषा की लाली
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
* बिखर रही है चान्दनी *
* बिखर रही है चान्दनी *
surenderpal vaidya
याद रखना
याद रखना
Dr fauzia Naseem shad
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एकतरफा सारे दुश्मन माफ किये जाऐं
एकतरफा सारे दुश्मन माफ किये जाऐं
Maroof aalam
" टैगोर "
सुनीलानंद महंत
प्यार इस कदर है तुमसे बतायें कैसें।
प्यार इस कदर है तुमसे बतायें कैसें।
Yogendra Chaturwedi
शिवाजी गुरु स्वामी समर्थ रामदास – भाग-01
शिवाजी गुरु स्वामी समर्थ रामदास – भाग-01
Sadhavi Sonarkar
माई बेस्ट फ्रैंड ''रौनक''
माई बेस्ट फ्रैंड ''रौनक''
लक्की सिंह चौहान
जाति-धर्म में सब बटे,
जाति-धर्म में सब बटे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं हु दीवाना तेरा
मैं हु दीवाना तेरा
Basant Bhagawan Roy
धन बल पर्याय
धन बल पर्याय
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
चूड़ियां
चूड़ियां
Madhavi Srivastava
वह इंसान नहीं
वह इंसान नहीं
Anil chobisa
मुस्कुराओ तो सही
मुस्कुराओ तो सही
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
#देसी_ग़ज़ल
#देसी_ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
कान्हा भक्ति गीत
कान्हा भक्ति गीत
Kanchan Khanna
नहीं चाहता मैं यह
नहीं चाहता मैं यह
gurudeenverma198
बाबा साहब एक महान पुरुष या भगवान
बाबा साहब एक महान पुरुष या भगवान
जय लगन कुमार हैप्पी
भारत चाँद पर छाया हैं…
भारत चाँद पर छाया हैं…
शांतिलाल सोनी
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
Rj Anand Prajapati
Loading...