Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jan 2023 · 1 min read

ऐ पड़ोसी सोच

गुफ्तगूं की पेशकश में,
दिखती हैं मजबूरियां।
वरना पाव भर के गोले
दागते वे दे बयां।

ऐ पड़ोसी सोच फिर से,
एक नहीं दस मर्तवा।
बूत परस्तों के यहां की,
क्या रोटी मंजूर है?

मुशरिकों के घर का खाना,
शायद न जायज लगे।
क्या मुनासिब होगा गंदुम?
काफिरों के देश का।

फतवा जारी हो गया गर,
ये आटा हराम है।
मरें, लेकिन नहीं लेंगे,
गंदुम दुश्मन मुल्क से ।

वक्त गाढ़े पर तुम्हारे,
पेशकश की थी एक बार।
कर दिया इनकार तुमने,
जो नहीं वाजिब लगी।

मट्ठे से भी जल न जाऊं,
सोचता हरदम यही।
मदद करने की हिमाकत,
इस लिये करते नहीं।

अपनी अपनी शान होती,
अपनी अपनी नाक है।
अदना आखिर क्यों उड़ाये,
खिल्ली किसी मजबूर का।

मुझको इतना ही है कहना,
नारा मेरा है यही।
जियो और जीने को मुझको,
दहशतगर्दी बंद हो।

बूत परस्ती से ही सीखा,
दुनिया एक परिवार है।
कौम की तहजीब मेरे,
नेकी में आगे रहो।

झोली को फैला के देखो,
रहेगी खाली नहीं।
न करे मायूस कतई,
मेरे भारत का सदर।

फ़क़त परेशां किया है,
हरदम करके दुश्मनी।
जबकि हमने दुआ मांगी,
तू भी खूब आबाद हो।

औरों खातिर गड्ढा खोदा,
खुद ही उसमें गिर गये।
सच कहा है मुर्शिदों ने,
बोए जो काटे वही।

मौला के घर देर है पर,
न कभी अंधेर है।
होती न आवाज कोई,
उस खुदा की मार में।

सतीश सृजन, लखनऊ.

Language: Hindi
200 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
आज के माहौल में
आज के माहौल में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भारत के बच्चे
भारत के बच्चे
Rajesh Tiwari
सदा के लिए
सदा के लिए
Saraswati Bajpai
खाओ जलेबी
खाओ जलेबी
surenderpal vaidya
सुलगती आग हूॅ॑ मैं बुझी हुई राख ना समझ
सुलगती आग हूॅ॑ मैं बुझी हुई राख ना समझ
VINOD CHAUHAN
**हो गया हूँ दर बदर चाल बदली देख कर**
**हो गया हूँ दर बदर चाल बदली देख कर**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जब वक़्त के साथ चलना सीखो,
जब वक़्त के साथ चलना सीखो,
Nanki Patre
" चर्चा चाय की "
Dr Meenu Poonia
समय और स्त्री
समय और स्त्री
Madhavi Srivastava
मुझ पर तुम्हारे इश्क का साया नहीं होता।
मुझ पर तुम्हारे इश्क का साया नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
और क्या ज़िंदगी का हासिल है
और क्या ज़िंदगी का हासिल है
Shweta Soni
स्त्री यानी
स्त्री यानी
पूर्वार्थ
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
कवि रमेशराज
.... कुछ....
.... कुछ....
Naushaba Suriya
अज्ञानी की कलम
अज्ञानी की कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
लहसुन
लहसुन
आकाश महेशपुरी
कभी खामोश रहता है, कभी आवाज बनता है,
कभी खामोश रहता है, कभी आवाज बनता है,
Rituraj shivem verma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
भरमाभुत
भरमाभुत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
तुम्हें कब ग़ैर समझा है,
तुम्हें कब ग़ैर समझा है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आओ गुफ्तगू करे
आओ गुफ्तगू करे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023
क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023
Sandeep Pande
2928.*पूर्णिका*
2928.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राम नाम सर्वश्रेष्ठ है,
राम नाम सर्वश्रेष्ठ है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
राम सीता लक्ष्मण का सपना
राम सीता लक्ष्मण का सपना
Shashi Mahajan
प्रिये
प्रिये
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सत्य तो सीधा है, सरल है
सत्य तो सीधा है, सरल है
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
बहुत गहरी थी रात
बहुत गहरी थी रात
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
*रामचरितमानस विशद, विपुल ज्ञान भंडार (कुछ दोहे)*
*रामचरितमानस विशद, विपुल ज्ञान भंडार (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
Loading...