Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Mar 2020 · 2 min read

चीन का पाप कृत्य

आज के इस वैश्विक संकट में सभी देश चिंतित और भयभीत हैं और सब चीन को सन्देह की दृष्टि से देख रहे हैं । विभिन्न देशों का चीन के प्रति संदेहित होना अप्रत्याशित कतई नहीं कहा जा सकता । हिमगिरि के पार के इस देश को अनायास ही संदेहित नहीं किया गया है , इसके पार्श्व में सबके अपने तर्क हैं और इन्हें अनदेखा भी नहीं किया जा सकता । चीन में जब कोरोना वायरस प्रारंभिक अवस्था में था , चीन ने उसे छुपाया और जांच के नमूने को भी नष्ट किया । प्रकरण को सामने लाने वाले डॉक्टर और पत्रकार को चुप करवाया । जब दुनिया भर के देश इससे बुरी तरह जूझ रहे हैं , तब चीन के दूसरे प्रांत इससे अछूते कैसे रह गए । क्या यह चीन की पापमयी मंशा को इंगित नहीं करता । यह मानव से मानव में फैलता है , इस बात को प्रारंभ में छुपाया । WHO ने इसमें चीन का साथ क्यों दिया । क्या WHO और बीझिंग कोई व्यूह रचना कर रहे थे ।
वुहान से बिना किसी जांच के हजारों – हजार लोग विश्व के भिन्न-भिन्न देशों में कैसे चले गए । इटली ,स्पेन , जर्मनी ,फ्रांस
अमेरिका ,ब्रिटेन जब इस आपदा से बुरी तरह प्रभावित हैं ,तब
इसके केन्द्र रहे चीन को इससे मुक्ति की युक्ति कैसे सूझ गई ।
उसने दुनिया को इस विपत्ति से आगाह करके अपने उपाय को साझा क्यों नहीं किया । उसका यह कृत्य उसके पाप को ही उजागर करता है , तथा दुनिया के अन्यान्य राष्ट्रों में उसके प्रति संदेह को पुख़्ता करता है ।अब उसे दुनिया के देशों से अछूत होने का भय सता रहा है , इसलिए वह भारत के प्रयासों की सराहना कर उसका साथ चाहता है । लेकिन उसका यह पाप कृत्य सदैव अक्षम्य रहेगा ।

Language: Hindi
Tag: लेख
2 Likes · 3 Comments · 376 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*कुमुद की अमृत ध्वनि- सावन के झूलें*
*कुमुद की अमृत ध्वनि- सावन के झूलें*
रेखा कापसे
नौकरी (२)
नौकरी (२)
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कह न पाई सारी रात सोचती रही
कह न पाई सारी रात सोचती रही
Ram Krishan Rastogi
// प्रसन्नता //
// प्रसन्नता //
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
तुम्हारे आगे, गुलाब कम है
तुम्हारे आगे, गुलाब कम है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कहें किसे क्या आजकल, सब मर्जी के मीत ।
कहें किसे क्या आजकल, सब मर्जी के मीत ।
sushil sarna
तुम ही कहती हो न,
तुम ही कहती हो न,
पूर्वार्थ
2704.*पूर्णिका*
2704.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इश्क
इश्क
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कैसे आंखों का
कैसे आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
नेता का अभिनय बड़ा, यह नौटंकीबाज(कुंडलिया )
नेता का अभिनय बड़ा, यह नौटंकीबाज(कुंडलिया )
Ravi Prakash
अकेलापन
अकेलापन
Neeraj Agarwal
तुम्हारे महबूब के नाजुक ह्रदय की तड़पती नसों की कसम।
तुम्हारे महबूब के नाजुक ह्रदय की तड़पती नसों की कसम।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो माँ)
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो माँ)
Dr Archana Gupta
नमः शिवाय ।
नमः शिवाय ।
Anil Mishra Prahari
■ अवतरण पर्व
■ अवतरण पर्व
*Author प्रणय प्रभात*
Kagaj ki nav ban gyi mai
Kagaj ki nav ban gyi mai
Sakshi Tripathi
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
Ranjeet kumar patre
18)”योद्धा”
18)”योद्धा”
Sapna Arora
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आऊँगा कैसे मैं द्वार तुम्हारे
आऊँगा कैसे मैं द्वार तुम्हारे
gurudeenverma198
भारत मे तीन चीजें हमेशा शक के घेरे मे रहतीं है
भारत मे तीन चीजें हमेशा शक के घेरे मे रहतीं है
शेखर सिंह
!! युवा !!
!! युवा !!
Akash Yadav
अलविदा नहीं
अलविदा नहीं
Pratibha Pandey
'मौन का सन्देश'
'मौन का सन्देश'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
शेष कुछ
शेष कुछ
Dr.Priya Soni Khare
फाग (बुंदेली गीत)
फाग (बुंदेली गीत)
umesh mehra
जनता का भरोसा
जनता का भरोसा
Shekhar Chandra Mitra
'एक कप चाय' की कीमत
'एक कप चाय' की कीमत
Karishma Shah
Loading...