Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2019 · 2 min read

ऐसे भी मंत्री

ऐसे भी मंत्री
नवतपा शुरू होने में अभी समय था, परंतु सूर्य देवता अपना प्रचंड रूप दिखाने लगे थे। तापमान 45 डिग्री सेंटीग्रेड पार कर चुका था। लू और गर्मी जनित रोगों से सरकारी अस्पताल में बैड कम पड़ने लगे थे। भीषण गर्मी और आधे से अधिक एसी और कूलर खराब। मरीजों के ठीक होने की बजाय और बीमार होने की आशंका बढ़ गई थी।
मंत्री जी अचानक निरीक्षण पर पहुँचे। अस्पताल प्रबंधन से एसी और कूलर तत्काल ठीक करने या नये लगवाने के निर्देश दिए।
मैनेजर ने बताया, “सर अभी आम चुनाव की वजह से देश भर में आचार संहिता लागू है। मैनटेनेंस की ए.एम.यू. की डेट पार हो चुकी है। इसलिए काम अटका हुआ है।”
मंत्री जी ने कहा, “तो क्या आचार संहिता हटते तक लोगों को इसी हालत में मरने के लिए छोड़ दें ?”
मैनेजर साहब क्या बोलते ?
मंत्री जी ने पूछा, “यदि कोई व्यक्ति कुछ एसी और कूलर अस्पताल प्रबंधन को दानस्वरूप दे, तो उसे लगा सकते हैं कि नहीं ?”
मैनेजर बोला, “लगा सकते हैं सर, परंतु देगा कौन ?”
मंत्री जी ने फिर से पूछा, “खराब एसी और कूलर की रिपेयरिंग पर लगभग कितना खर्चा आएगा ?”
मैनेजर ने बताया, “लगभग डेढ़ लाख रुपए सर।”
मंत्री जी बोले, “जो फर्म यह काम करता है, उसके मैनेजर से मेरी बात कराओ।”
मैनेजर ने तत्काल उनकी बात कराई। मंंत्री जी बोले, “मैनेजर साहब आपके खाते में अभी हम पाँच लाख रुपये ट्रांसफर कर रहे हैं। यहाँ सरकारी अस्पताल के जितने भी कूलर और एसी खराब हैं, उन्हें एक हफ्ते के भीतर सुधारिए और दो-दो टन के दो-दो एसी दोनों जनरल वार्ड में और 20 नये कूलर यहाँ आज शाम तक भिजवाइए। और हाँ, बिल हमारे पर्सनल नाम से बनाइएगा, कार्यालय के नाम से नहीं। शेष राशि काम होने के बाद हम आपके खाते में ट्रांसफर कर देंगे।”
मंत्री जी ने मैनेजर से फर्म का एकाऊंट नंबर लेकर उसमें पाँच लाख रुपये जमा करवा दिए।
मैनेजर सहित उपस्थित सभी अधिकारी, कर्मचारी, मरीज और उनके परिजन कृतज्ञ भाव से देख रहे थे।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

1 Like · 357 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सार छंद विधान सउदाहरण / (छन्न पकैया )
सार छंद विधान सउदाहरण / (छन्न पकैया )
Subhash Singhai
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
Diwakar Mahto
🌺आलस्य🌺
🌺आलस्य🌺
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
धैर्य और साहस
धैर्य और साहस
ओंकार मिश्र
जो चाहने वाले होते हैं ना
जो चाहने वाले होते हैं ना
पूर्वार्थ
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
Dr Archana Gupta
"सुधार"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं जिससे चाहा,
मैं जिससे चाहा,
Dr. Man Mohan Krishna
कुछ नमी
कुछ नमी
Dr fauzia Naseem shad
पिता बनाम बाप
पिता बनाम बाप
Sandeep Pande
हवाओं का मिज़ाज जो पहले था वही रहा
हवाओं का मिज़ाज जो पहले था वही रहा
Maroof aalam
बेटी को पंख के साथ डंक भी दो
बेटी को पंख के साथ डंक भी दो
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
आइन-ए-अल्फाज
आइन-ए-अल्फाज
AJAY AMITABH SUMAN
जो गुजर गया
जो गुजर गया
ruby kumari
■उलाहना■
■उलाहना■
*Author प्रणय प्रभात*
सब दिन होते नहीं समान
सब दिन होते नहीं समान
जगदीश लववंशी
देशभक्त
देशभक्त
Shekhar Chandra Mitra
शीर्षक – ऐ बहती हवाएं
शीर्षक – ऐ बहती हवाएं
Sonam Puneet Dubey
(24) कुछ मुक्तक/ मुक्त पद
(24) कुछ मुक्तक/ मुक्त पद
Kishore Nigam
मंजिल की अब दूरी नही
मंजिल की अब दूरी नही
देवराज यादव
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
Blac is dark
Blac is dark
Neeraj Agarwal
दुनिया मे नाम कमाने के लिए
दुनिया मे नाम कमाने के लिए
शेखर सिंह
उसी पथ से
उसी पथ से
Kavita Chouhan
शबे दर्द जाती नही।
शबे दर्द जाती नही।
Taj Mohammad
2526.पूर्णिका
2526.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कुछ नींदों से ख़्वाब उड़ जाते हैं
कुछ नींदों से ख़्वाब उड़ जाते हैं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सारे सब्जी-हाट में, गंगाफल अभिराम (कुंडलिया )
सारे सब्जी-हाट में, गंगाफल अभिराम (कुंडलिया )
Ravi Prakash
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ये इश्क़-विश्क़ के फेरे-
ये इश्क़-विश्क़ के फेरे-
Shreedhar
Loading...