Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Dec 2023 · 1 min read

“ऐसा है अपना रिश्ता “

“ऐसा है अपना रिश्ता ”
कहने को तो बहुत है अपने ,
पर कोई तुमशा मिला न अपना।
जो समझे हमें दिल से अपना,
ऐसा है रिश्ता अपना।
बातों से परख लेते हो तुम,
देखते ही समझ जाते हो तुम।
दिल में खुशी है या गम ,
कहे बिना ही बता जाते हो तुम।
ऐसा है अपना रिश्ता ,ऐसा है अपना रिश्ता।
…….✍️ योगेन्द्र चतुर्वेदी

249 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*जिंदगी*
*जिंदगी*
Harminder Kaur
.
.
Ragini Kumari
" तुम्हारी जुदाई में "
Aarti sirsat
ईमान धर्म बेच कर इंसान खा गया।
ईमान धर्म बेच कर इंसान खा गया।
सत्य कुमार प्रेमी
बहुत जरूरी है तो मुझे खुद को ढूंढना
बहुत जरूरी है तो मुझे खुद को ढूंढना
Ranjeet kumar patre
वो लड़की
वो लड़की
Kunal Kanth
बसुधा ने तिरंगा फहराया ।
बसुधा ने तिरंगा फहराया ।
Kuldeep mishra (KD)
"कारोबार"
Dr. Kishan tandon kranti
जो बीत गयी सो बीत गई जीवन मे एक सितारा था
जो बीत गयी सो बीत गई जीवन मे एक सितारा था
Rituraj shivem verma
बेचारे नेता
बेचारे नेता
गुमनाम 'बाबा'
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
अजब-गजब नट भील से, इस जीवन के रूप
अजब-गजब नट भील से, इस जीवन के रूप
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2668.*पूर्णिका*
2668.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गाय
गाय
Vedha Singh
जिसका इन्तजार हो उसका दीदार हो जाए,
जिसका इन्तजार हो उसका दीदार हो जाए,
डी. के. निवातिया
हज़ारों साल
हज़ारों साल
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
प्रीति की राह पर बढ़ चले जो कदम।
प्रीति की राह पर बढ़ चले जो कदम।
surenderpal vaidya
: काश कोई प्यार को समझ पाता
: काश कोई प्यार को समझ पाता
shabina. Naaz
घाटे का सौदा
घाटे का सौदा
विनोद सिल्ला
■ आलेख
■ आलेख
*Author प्रणय प्रभात*
*अपनी-अपनी चमक दिखा कर, सबको ही गुम होना है (मुक्तक)*
*अपनी-अपनी चमक दिखा कर, सबको ही गुम होना है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
शीर्षक - संगीत
शीर्षक - संगीत
Neeraj Agarwal
प्रेम ईश्वर
प्रेम ईश्वर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरी ज़िंदगी की खुशियां
मेरी ज़िंदगी की खुशियां
Dr fauzia Naseem shad
स्त्री न देवी है, न दासी है
स्त्री न देवी है, न दासी है
Manju Singh
Wakt ke girewan ko khich kar
Wakt ke girewan ko khich kar
Sakshi Tripathi
ऐ वतन....
ऐ वतन....
Anis Shah
चिंगारी बन लड़ा नहीं जो
चिंगारी बन लड़ा नहीं जो
AJAY AMITABH SUMAN
निगाहों से पूछो
निगाहों से पूछो
Surinder blackpen
स्त्रीलिंग...एक ख़ूबसूरत एहसास
स्त्रीलिंग...एक ख़ूबसूरत एहसास
Mamta Singh Devaa
Loading...