Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2023 · 1 min read

ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा

ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
=========================

ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
हुसैन ने तुझे ता हश्र तक मशहूर कर दिया

हुसैन वो है जो देते नहीं यजीद को हाथ
सर दे दिया और दीन को महफ़ूज़ कर दिया..

होती है खत्म शुजाअत इब्ने हसन के ऊपर
अरजक का गुरुर कासिम ने चूर चूर कर दिया

ए दरया- ये फ़ुरात तेरा पानी नहीं पिया
हाशिम के चाँद ने तुझे मकरूज कर दिया

करते थे सब्र और सजदाये -शुक्र कदम कदम
आबिद ने जालिमों को भी मजबूर कर दिया

उन तीन दिन के भूखे प्यासों की
जरा जंग तो देख लो
अक़बर ने पूरी फौज को नेजे पे धर दिया

खुदारा बा- रोजे महशर हमारी भी हो शिफायत
हमने भी नबी की आल से खुद को मनसूब कर दिया…..

From my book markaye-karbala……shabinaZ
shabinaZ

Language: Hindi
Tag: Book 2, Quote Writer, शेर

338 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from shabina. Naaz
View all
You may also like:
उलझनें रूकती नहीं,
उलझनें रूकती नहीं,
Sunil Maheshwari
हर शेर हर ग़ज़ल पे है ऐसी छाप तेरी - संदीप ठाकुर
हर शेर हर ग़ज़ल पे है ऐसी छाप तेरी - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
बारिश की मस्ती
बारिश की मस्ती
Shaily
बेवफा, जुल्मी💔 पापा की परी, अगर तेरे किए वादे सच्चे होते....
बेवफा, जुल्मी💔 पापा की परी, अगर तेरे किए वादे सच्चे होते....
SPK Sachin Lodhi
वर्तमान सरकारों ने पुरातन ,
वर्तमान सरकारों ने पुरातन ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
*भला कैसा ये दौर है*
*भला कैसा ये दौर है*
sudhir kumar
2986.*पूर्णिका*
2986.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
This Love That Feels Right!
This Love That Feels Right!
R. H. SRIDEVI
देव विनायक वंदना
देव विनायक वंदना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्रदाता
प्रदाता
Dinesh Kumar Gangwar
दिल को सिर्फ तेरी याद ही , क्यों आती है हरदम
दिल को सिर्फ तेरी याद ही , क्यों आती है हरदम
gurudeenverma198
प्रेमचन्द के पात्र अब,
प्रेमचन्द के पात्र अब,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माँ
माँ
Dr Archana Gupta
प्रेम छिपाये ना छिपे
प्रेम छिपाये ना छिपे
शेखर सिंह
जिंदगी
जिंदगी
Dr.Priya Soni Khare
जब गेंद बोलती है, धरती हिलती है, मोहम्मद शमी का जादू, बयां क
जब गेंद बोलती है, धरती हिलती है, मोहम्मद शमी का जादू, बयां क
Sahil Ahmad
ज़हालत का दौर
ज़हालत का दौर
Shekhar Chandra Mitra
#अपनाएं_ये_हथकंडे...
#अपनाएं_ये_हथकंडे...
*प्रणय प्रभात*
सौंदर्यबोध
सौंदर्यबोध
Prakash Chandra
अहंकार
अहंकार
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
किस बात का गुमान है यारो
किस बात का गुमान है यारो
Anil Mishra Prahari
पिता (मर्मस्पर्शी कविता)
पिता (मर्मस्पर्शी कविता)
Dr. Kishan Karigar
यहाँ तो मात -पिता
यहाँ तो मात -पिता
DrLakshman Jha Parimal
मुक़्तज़ा-ए-फ़ितरत
मुक़्तज़ा-ए-फ़ितरत
Shyam Sundar Subramanian
"कहानी मेरी अभी ख़त्म नही
पूर्वार्थ
पानी में हीं चाँद बुला
पानी में हीं चाँद बुला
Shweta Soni
*पानी केरा बुदबुदा*
*पानी केरा बुदबुदा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक अकेला
एक अकेला
Punam Pande
*......हसीन लम्हे....* .....
*......हसीन लम्हे....* .....
Naushaba Suriya
यादों के गुलाब
यादों के गुलाब
Neeraj Agarwal
Loading...