Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2023 · 1 min read

ऐसा क्यों होता है

ऐसा क्यों होता है।

क्यों बंधन दिल पर हो?
क्यों गुनाह दिल से हो?
क्यों रखा पर्दे में?
क्यों रहम कातिल से हो?
आखिर क्यों हुआ ऐसा?
क्यों कत्ल कर रोता है?।
ऐसा क्यों होता है ?।।

क्यों मजबूरी घर की हो?
क्यों दूरी सफर की हो?
क्यों काँटें चुभते हैं?,
क्यों धूरी डगर की हो?
आखिर क्यों चलता रहें?
काफिर कब सोता है? ।
ऐसा क्यों होता है ?।।

क्यों धोखे में रखा जाए?
कैसे क्यों बात छुपाए?
बने थे अपने क्यों?,
क्यों गैररत फिर दिखलाए?
आखिर क्यों किसी के?
दिल ये ग़म ढ़ोता है ।
ऐसा क्यों होता है ।।

क्यों दुनिया अब ऐसी है?
क्यों दीन को जख्म देती है?
क्यों अब इसमें जीएं?
जहाँ जिंदगी ऐसी तैसी है
आखिर क्यों गले लगा?
सीने में खंजर चुभोता है ।
ऐसा क्यों होता है ।।

रोहताश वर्मा ‘मुसाफ़िर’

Language: Hindi
1 Like · 358 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फ़ानी
फ़ानी
Shyam Sundar Subramanian
23/213. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/213. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Khuch chand kisso ki shuruat ho,
Khuch chand kisso ki shuruat ho,
Sakshi Tripathi
देश प्रेम
देश प्रेम
Dr Parveen Thakur
"अनमोल सौग़ात"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
गर्मी
गर्मी
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
प्रेम पथ का एक रोड़ा 🛣️🌵🌬️
प्रेम पथ का एक रोड़ा 🛣️🌵🌬️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हकीकत
हकीकत
Dr. Seema Varma
कौन सोचता है
कौन सोचता है
Surinder blackpen
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
होली
होली
Dr Archana Gupta
यहाँ पाया है कम, खोया बहुत है
यहाँ पाया है कम, खोया बहुत है
अरशद रसूल बदायूंनी
■ समझाइश...
■ समझाइश...
*Author प्रणय प्रभात*
तुम्हारे आगे, गुलाब कम है
तुम्हारे आगे, गुलाब कम है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता
पिता
Sanjay ' शून्य'
गुस्सा सातवें आसमान पर था
गुस्सा सातवें आसमान पर था
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बिना मेहनत के कैसे मुश्किल का तुम हल निकालोगे
बिना मेहनत के कैसे मुश्किल का तुम हल निकालोगे
कवि दीपक बवेजा
*आओ लौटें फिर चलें, बचपन के दिन संग(कुंडलिया)*
*आओ लौटें फिर चलें, बचपन के दिन संग(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
विनती
विनती
Saraswati Bajpai
योग दिवस पर
योग दिवस पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
कदम बढ़ाकर मुड़ना भी आसान कहां था।
कदम बढ़ाकर मुड़ना भी आसान कहां था।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
अपना यह गणतन्त्र दिवस, ऐसे हम मनायें
अपना यह गणतन्त्र दिवस, ऐसे हम मनायें
gurudeenverma198
💐प्रेम कौतुक-330💐
💐प्रेम कौतुक-330💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
धर्मी जब खुल कर नंगे होते हैं।
धर्मी जब खुल कर नंगे होते हैं।
Dr MusafiR BaithA
** बहाना ढूंढता है **
** बहाना ढूंढता है **
surenderpal vaidya
"अमीर खुसरो"
Dr. Kishan tandon kranti
रिश्ते (एक अहसास)
रिश्ते (एक अहसास)
umesh mehra
तल्ख
तल्ख
shabina. Naaz
मेरे दिल से उसकी हर गलती माफ़ हो जाती है,
मेरे दिल से उसकी हर गलती माफ़ हो जाती है,
Vishal babu (vishu)
सोना बोलो है कहाँ, बोला मुझसे चोर।
सोना बोलो है कहाँ, बोला मुझसे चोर।
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...