Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Aug 2016 · 1 min read

ऐसा अपना टीचर हो

मेरी बाल्यकाल की एक रचना , पुरानी भावनाये ताजा होने पर आपसे सांझा करने का मन हुआ ।
।।।।।।।।ऐसा अपना टीचर हो।।।।।।।

ऐसा अपना टीचर हो
अच्छा जिसका नेचर हो
मुख पर हर दम स्माइल हो
ऐसा उसका स्टाइल हो
जिद का वो अड़ियल हो
अंदाज न उसका सड़ियल हो
सादगी की मिसाल हो ।
आवाज में मिठास बेमिसाल हो ।
पढ़ाई का ऐसा जादू कर डाले
खेल खेल में हर चैप्टर कर डाले
ऐसी बात वो कहता हो ।
सबके हर्ट में रहता हो ।
कर दे वो ऐसी मेहरबानियाँ
याद करूँ मैं हरदम, उसकी कुर्बानियां
© कृष्ण मलिक 31.03.2014

Language: Hindi
2 Comments · 499 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from कृष्ण मलिक अम्बाला
View all
You may also like:
मुझे मेरी फितरत को बदलना है
मुझे मेरी फितरत को बदलना है
Basant Bhagawan Roy
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कॉलेज वाला प्यार
कॉलेज वाला प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हरी भरी थी जो शाखें दरख्त की
हरी भरी थी जो शाखें दरख्त की
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
तुम जो कहते हो प्यार लिखूं मैं,
तुम जो कहते हो प्यार लिखूं मैं,
Manoj Mahato
"फ़ानी दुनिया"
Dr. Kishan tandon kranti
एक कहानी है, जो अधूरी है
एक कहानी है, जो अधूरी है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
स्वास्थ्य बिन्दु - ऊर्जा के हेतु
स्वास्थ्य बिन्दु - ऊर्जा के हेतु
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बाल कविता: नानी की बिल्ली
बाल कविता: नानी की बिल्ली
Rajesh Kumar Arjun
एक अच्छे मुख्यमंत्री में क्या गुण होने चाहिए ?
एक अच्छे मुख्यमंत्री में क्या गुण होने चाहिए ?
Vandna thakur
भावो को पिरोता हु
भावो को पिरोता हु
भरत कुमार सोलंकी
जब रंग हजारों फैले थे,उसके कपड़े मटमैले थे।
जब रंग हजारों फैले थे,उसके कपड़े मटमैले थे।
पूर्वार्थ
सच ही सच
सच ही सच
Neeraj Agarwal
*घर*
*घर*
Dushyant Kumar
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
Kirti Aphale
प्यार के मायने
प्यार के मायने
SHAMA PARVEEN
स्त्री एक कविता है
स्त्री एक कविता है
SATPAL CHAUHAN
त्राहि त्राहि
त्राहि त्राहि
Dr.Pratibha Prakash
वेलेंटाइन डे
वेलेंटाइन डे
Surinder blackpen
उत्तर नही है
उत्तर नही है
Punam Pande
एक कहानी लिख डाली.....✍️
एक कहानी लिख डाली.....✍️
singh kunwar sarvendra vikram
#लघुकथा- चुनावी साल, वही बवाल
#लघुकथा- चुनावी साल, वही बवाल
*प्रणय प्रभात*
16, खुश रहना चाहिए
16, खुश रहना चाहिए
Dr .Shweta sood 'Madhu'
ज़िन्दगी वो युद्ध है,
ज़िन्दगी वो युद्ध है,
Saransh Singh 'Priyam'
धर्मराज
धर्मराज
Vijay Nagar
छोड़कर जाने वाले क्या जाने,
छोड़कर जाने वाले क्या जाने,
शेखर सिंह
ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं
ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं
Atul "Krishn"
हंसकर मुझे तू कर विदा
हंसकर मुझे तू कर विदा
gurudeenverma198
సంస్థ అంటే సేవ
సంస్థ అంటే సేవ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
Loading...