Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ऐसा अपना टीचर हो

मेरी बाल्यकाल की एक रचना , पुरानी भावनाये ताजा होने पर आपसे सांझा करने का मन हुआ ।
।।।।।।।।ऐसा अपना टीचर हो।।।।।।।

ऐसा अपना टीचर हो
अच्छा जिसका नेचर हो
मुख पर हर दम स्माइल हो
ऐसा उसका स्टाइल हो
जिद का वो अड़ियल हो
अंदाज न उसका सड़ियल हो
सादगी की मिसाल हो ।
आवाज में मिठास बेमिसाल हो ।
पढ़ाई का ऐसा जादू कर डाले
खेल खेल में हर चैप्टर कर डाले
ऐसी बात वो कहता हो ।
सबके हर्ट में रहता हो ।
कर दे वो ऐसी मेहरबानियाँ
याद करूँ मैं हरदम, उसकी कुर्बानियां
© कृष्ण मलिक 31.03.2014

2 Comments · 226 Views
You may also like:
नदी का किनारा
Ashwani Kumar Jaiswal
✍️✍️हौंसला✍️✍️
"अशांत" शेखर
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
क्या होता है पिता
gurudeenverma198
मजदूर की रोटी
AMRESH KUMAR VERMA
हो गई स्याह वह सुबह
gurudeenverma198
भाईजान की बात
AJAY PRASAD
क़िस्मत का सितारा।
Taj Mohammad
नेताओं के घर भी बुलडोजर चल जाए
Dr. Kishan Karigar
अश्रुपात्र A glass of years भाग 6 और 7
Dr. Meenakshi Sharma
♡ चाय की तलब ♡
Dr. Alpa H. Amin
इन्सानों का ये लालच तो देखिए।
Taj Mohammad
चौपाई छंद में सौलह मात्राओं का सही गठन
Subhash Singhai
ईद में खिलखिलाहट
Dr. Kishan Karigar
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
💐 निर्गुणी नर निगोड़ा 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रणाम नमस्ते अभिवादन....
Dr. Alpa H. Amin
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पुन: विभूषित हो धरती माँ ।
Saraswati Bajpai
मैं मेरा परिवार और वो यादें...💐
लवकुश यादव "अज़ल"
जो देखें उसमें
Dr.sima
वापस लौट नहीं आना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बाबू जी
Anoop Sonsi
अधजल गगरी छलकत जाए
Vishnu Prasad 'panchotiya'
दाता
निकेश कुमार ठाकुर
मन सीख न पाया
Saraswati Bajpai
पैसों का खेल
AMRESH KUMAR VERMA
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
छलके जो तेरी अखियाँ....
Dr. Alpa H. Amin
Loading...