Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Nov 2022 · 1 min read

ए ड्रीम आफ लव

मेरे महबूब!
एहसास तो
मेरे पास है
लेकिन
अल्फ़ाज़ ही
नहीं हैं
और
अल्फ़ाज़ तो
तेरे पास हैं
लेकिन
एहसास ही
नहीं है।
फिर क्यों न
हम दोनों
मिलकर
एक-दूसरे को
मुक्कमल कर दें?
#love #LiveInRelationship
#Romantic #lovers #poetry
#DREAM #Youth #girls #कवि

Language: Hindi
52 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दवा के ठाँव में
दवा के ठाँव में
Dr. Sunita Singh
सुदूर गाँव मे बैठा कोई बुजुर्ग व्यक्ति, और उसका परिवार जो खे
सुदूर गाँव मे बैठा कोई बुजुर्ग व्यक्ति, और उसका परिवार जो खे
Shyam Pandey
आत्मा को ही सुनूँगा
आत्मा को ही सुनूँगा
राहुल द्विवेदी 'स्मित'
रामभरोसे चल रहा, न्यायालय का काम (कुंडलिया)
रामभरोसे चल रहा, न्यायालय का काम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मेरे 20 सर्वश्रेष्ठ दोहे
मेरे 20 सर्वश्रेष्ठ दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*धूप में रक्त मेरा*
*धूप में रक्त मेरा*
सूर्यकांत द्विवेदी
हिंदी शायरी संग्रह
हिंदी शायरी संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
सँविधान
सँविधान
Bodhisatva kastooriya
यादों का सफ़र...
यादों का सफ़र...
Santosh Soni
নির্মল নিশ্চল হৃদয় পল্লবিত আত্মজ্ঞান হোক
নির্মল নিশ্চল হৃদয় পল্লবিত আত্মজ্ঞান হোক
Sakhawat Jisan
"क्या देश आजाद है?"
Ekta chitrangini
बाबा मैं हर पल तुम्हारे अस्तित्व को महसूस करती हुं
बाबा मैं हर पल तुम्हारे अस्तित्व को महसूस करती हुं
Ankita Patel
बचपन
बचपन
लक्ष्मी सिंह
" मेरी तरह "
Aarti sirsat
ख़ाक हुए अरमान सभी,
ख़ाक हुए अरमान सभी,
Arvind trivedi
💐उनके साथ का कुछ असर देखें तो माने💐
💐उनके साथ का कुछ असर देखें तो माने💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गुनहगार तू भी है...
गुनहगार तू भी है...
मनोज कर्ण
ये लखनऊ है ज़नाब
ये लखनऊ है ज़नाब
Satish Srijan
बाढ़ और इंसान।
बाढ़ और इंसान।
Buddha Prakash
मुझको कुर्सी तक पहुंचा दे
मुझको कुर्सी तक पहुंचा दे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चरचा गरम बा
चरचा गरम बा
Shekhar Chandra Mitra
खोया हुआ वक़्त
खोया हुआ वक़्त
Sidhartha Mishra
चिरकाल तक लहराता अपना तिरंगा रहे
चिरकाल तक लहराता अपना तिरंगा रहे
Suryakant Angara Kavi official
आपकी क्रिया-प्रतिक्रिया ही आपकी वैचारिक जीवंतता
आपकी क्रिया-प्रतिक्रिया ही आपकी वैचारिक जीवंतता
*Author प्रणय प्रभात*
ऐ दिल तु ही बता दे
ऐ दिल तु ही बता दे
Ram Krishan Rastogi
कोरोना :शून्य की ध्वनि
कोरोना :शून्य की ध्वनि
Mahendra singh kiroula
बहकी बहकी बातें करना
बहकी बहकी बातें करना
Surinder blackpen
तुम्हें आती नहीं क्या याद की  हिचकी..!
तुम्हें आती नहीं क्या याद की हिचकी..!
Ranjana Verma
सुबह – सुबह की भीनी खुशबू
सुबह – सुबह की भीनी खुशबू
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मचले छूने को आकाश
मचले छूने को आकाश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...