Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Aug 2023 · 1 min read

एडमिन क हाथ मे हमर सांस क डोरि अटकल अछि …फेर सेंसर ..”पद्

एडमिन क हाथ मे हमर सांस क डोरि अटकल अछि …फेर सेंसर ..”पद्मावती ” ..क ..”पद्मावत ” ..लिखू …किछु ग्रुप त हमरा ” करणी सेना ” …बुझी पड़ैत अछि ! …..आब हम एहि प्रतिबंध सँ निजाद प्राप्त कर’ चाहैत छी ..किछु त स्वतंत्र आब हमरा रह’ दिय @परिमल

396 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
The Present War Scenario and Its Impact on World Peace and Independent Co-existance
The Present War Scenario and Its Impact on World Peace and Independent Co-existance
Shyam Sundar Subramanian
अब तो आई शरण तिहारी
अब तो आई शरण तिहारी
Dr. Upasana Pandey
122 122 122 12
122 122 122 12
SZUBAIR KHAN KHAN
.... कुछ....
.... कुछ....
Naushaba Suriya
एक समय वो था
एक समय वो था
Dr.Rashmi Mishra
बेवफाई करके भी वह वफा की उम्मीद करते हैं
बेवफाई करके भी वह वफा की उम्मीद करते हैं
Anand Kumar
*नारी तुम गृह स्वामिनी, तुम जीवन-आधार (कुंडलिया)*
*नारी तुम गृह स्वामिनी, तुम जीवन-आधार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आंखों की भाषा के आगे
आंखों की भाषा के आगे
Ragini Kumari
सबने हाथ भी छोड़ दिया
सबने हाथ भी छोड़ दिया
Shweta Soni
कामयाब लोग,
कामयाब लोग,
नेताम आर सी
If.. I Will Become Careless,
If.. I Will Become Careless,
Ravi Betulwala
कलरव करते भोर में,
कलरव करते भोर में,
sushil sarna
जवानी
जवानी
Bodhisatva kastooriya
■ कटाक्ष...
■ कटाक्ष...
*प्रणय प्रभात*
होली (विरह)
होली (विरह)
लक्ष्मी सिंह
Trying to look good.....
Trying to look good.....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एक चिंगारी ही काफी है शहर को जलाने के लिए
एक चिंगारी ही काफी है शहर को जलाने के लिए
कवि दीपक बवेजा
* गीत कोई *
* गीत कोई *
surenderpal vaidya
दहलीज़ पराई हो गई जब से बिदाई हो गई
दहलीज़ पराई हो गई जब से बिदाई हो गई
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*मेरे दिल में आ जाना*
*मेरे दिल में आ जाना*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्यार के काबिल बनाया जाएगा।
प्यार के काबिल बनाया जाएगा।
Neelam Sharma
मीनाबाजार
मीनाबाजार
Suraj Mehra
मेरे कान्हा
मेरे कान्हा
umesh mehra
चल‌ मनवा चलें....!!!
चल‌ मनवा चलें....!!!
Kanchan Khanna
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
कवि रमेशराज
3132.*पूर्णिका*
3132.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हयात कैसे कैसे गुल खिला गई
हयात कैसे कैसे गुल खिला गई
Shivkumar Bilagrami
"आओ उड़ चलें"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...