Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Apr 2024 · 1 min read

एक

एक
अरसा हुआ
ख़ुद को ख़ामोशियों में
दफ़्न कर लिया है मैंने
अब हूँ सुकून में
ख़ुद को शिद्दत से
जी लिया करता हूँ मैं !!!!

हिमांशु Kulshrestha

32 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ज्ञात हो
ज्ञात हो
Dr fauzia Naseem shad
वोटर की पॉलिटिक्स
वोटर की पॉलिटिक्स
Dr. Pradeep Kumar Sharma
//...महापुरुष...//
//...महापुरुष...//
Chinta netam " मन "
💐प्रेम कौतुक-533💐
💐प्रेम कौतुक-533💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तब तात तेरा कहलाऊँगा
तब तात तेरा कहलाऊँगा
Akash Yadav
"तजुर्बा"
Dr. Kishan tandon kranti
है शारदे मां
है शारदे मां
नेताम आर सी
उदासियाँ  भरे स्याह, साये से घिर रही हूँ मैं
उदासियाँ भरे स्याह, साये से घिर रही हूँ मैं
_सुलेखा.
हिन्दी दोहा-विश्वास
हिन्दी दोहा-विश्वास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तुम्हारा इक ख्याल ही काफ़ी है
तुम्हारा इक ख्याल ही काफ़ी है
Aarti sirsat
पर्वत दे जाते हैं
पर्वत दे जाते हैं
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
"बन्दगी" हिंदी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
खिल उठेगा जब बसंत गीत गाने आयेंगे
खिल उठेगा जब बसंत गीत गाने आयेंगे
Er. Sanjay Shrivastava
आजादी की शाम ना होने देंगे
आजादी की शाम ना होने देंगे
Ram Krishan Rastogi
.......रूठे अल्फाज...
.......रूठे अल्फाज...
Naushaba Suriya
उस चाँद की तलाश में
उस चाँद की तलाश में
Diwakar Mahto
"हर दिन कुछ नया सीखें ,
Mukul Koushik
تہذیب بھلا بیٹھے
تہذیب بھلا بیٹھے
Ahtesham Ahmad
प्यार खुद में है, बाहर ढूंढ़ने की जरुरत नही
प्यार खुद में है, बाहर ढूंढ़ने की जरुरत नही
Sunita jauhari
गीतिका
गीतिका
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आसमान में बादल छाए
आसमान में बादल छाए
Neeraj Agarwal
हथेली पर जो
हथेली पर जो
लक्ष्मी सिंह
फ़ितरत को ज़माने की, ये क्या हो गया है
फ़ितरत को ज़माने की, ये क्या हो गया है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*सुख से सबसे वे रहे, पेंशन जिनके पास (कुंडलिया)*
*सुख से सबसे वे रहे, पेंशन जिनके पास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
काश आज चंद्रमा से मुलाकाकत हो जाती!
काश आज चंद्रमा से मुलाकाकत हो जाती!
पूर्वार्थ
हर रात मेरे साथ ये सिलसिला हो जाता है
हर रात मेरे साथ ये सिलसिला हो जाता है
Madhuyanka Raj
6) जाने क्यों
6) जाने क्यों
पूनम झा 'प्रथमा'
अरमान
अरमान
अखिलेश 'अखिल'
खेल खिलौने वो बचपन के
खेल खिलौने वो बचपन के
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
होली
होली
Madhavi Srivastava
Loading...