Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jan 2023 · 1 min read

एक हकीक़त

सिर्फ़ खुला आसमान ही नहीं
कहीं गहरे समुंदर भी होते हैं।।
किसी को मिल जाती है मंज़िल
तो किसी के अधूरे सपने भी होते हैं ।।
ज़िन्दगी एक खुली किताब जैसी थी
पर अब हम वो रहे नहीं ।।
और जो है वो किसी को पता नहीं।।

✍️✍️ रश्मि गुप्ता@@ Ray’s Gupta

Language: Hindi
1 Like · 197 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ जय लोकतंत्र
■ जय लोकतंत्र
*Author प्रणय प्रभात*
माटी तेल कपास की...
माटी तेल कपास की...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Thought
Thought
Jyoti Khari
आ जाओ घर साजना
आ जाओ घर साजना
लक्ष्मी सिंह
तुम नहीं आये
तुम नहीं आये
Surinder blackpen
अपने मन मंदिर में, मुझे रखना, मेरे मन मंदिर में सिर्फ़ तुम रहना…
अपने मन मंदिर में, मुझे रखना, मेरे मन मंदिर में सिर्फ़ तुम रहना…
Anand Kumar
दया करो भगवान
दया करो भगवान
Buddha Prakash
हिचकियों का रहस्य
हिचकियों का रहस्य
Ram Krishan Rastogi
कितनी ही दफा मुस्कुराओ
कितनी ही दफा मुस्कुराओ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चम-चम चमके चाँदनी
चम-चम चमके चाँदनी
Vedha Singh
कांटों में जो फूल.....
कांटों में जो फूल.....
Vijay kumar Pandey
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
घर की रानी
घर की रानी
Kanchan Khanna
*पिता का प्यार*
*पिता का प्यार*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कहाँ से लाऊँ वो उम्र गुजरी हुई
कहाँ से लाऊँ वो उम्र गुजरी हुई
डॉ. दीपक मेवाती
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
मैं बंजारा बन जाऊं
मैं बंजारा बन जाऊं
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
भ्रष्टाचार और सरकार
भ्रष्टाचार और सरकार
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
श्री कृष्ण का चक्र चला
श्री कृष्ण का चक्र चला
Vishnu Prasad 'panchotiya'
अभिनय चरित्रम्
अभिनय चरित्रम्
मनोज कर्ण
जय भगतसिंह
जय भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
शिमला, मनाली, न नैनीताल देता है
शिमला, मनाली, न नैनीताल देता है
Anil Mishra Prahari
चश्मे
चश्मे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Love
Love
Abhijeet kumar mandal (saifganj)
★गैर★
★गैर★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
यार
यार
अखिलेश 'अखिल'
मुझको मेरा हिसाब देना है
मुझको मेरा हिसाब देना है
Dr fauzia Naseem shad
2336.पूर्णिका
2336.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*बदन में आ रही फुर्ती है, अब साँसें महकती हैं (मुक्तक)*
*बदन में आ रही फुर्ती है, अब साँसें महकती हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
अब कभी तुमको खत,हम नहीं लिखेंगे
अब कभी तुमको खत,हम नहीं लिखेंगे
gurudeenverma198
Loading...