Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jul 2023 · 1 min read

एक शेर

एक शेर
________________________
तराशा जो भी जाएगा,बढ़ेंगी कीमतें उसकी
वो देता दर्द भी है तो, छिपी होती है अच्छाई
_________________________
रचयिता :रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
137 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
संसद उद्घाटन
संसद उद्घाटन
Sanjay ' शून्य'
वक्त
वक्त
Namrata Sona
■ यक़ीन मानिए...
■ यक़ीन मानिए...
*प्रणय प्रभात*
अपना गाँव
अपना गाँव
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
सफलता
सफलता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कुदरत
कुदरत
Neeraj Agarwal
भले ही शरीर में खून न हो पर जुनून जरूर होना चाहिए।
भले ही शरीर में खून न हो पर जुनून जरूर होना चाहिए।
Rj Anand Prajapati
Happy Mother's Day ❤️
Happy Mother's Day ❤️
NiYa
“ आप अच्छे तो जग अच्छा ”
“ आप अच्छे तो जग अच्छा ”
DrLakshman Jha Parimal
आइये - ज़रा कल की बात करें
आइये - ज़रा कल की बात करें
Atul "Krishn"
The Day I Wore My Mother's Saree!
The Day I Wore My Mother's Saree!
R. H. SRIDEVI
अधिक हर्ष और अधिक उन्नति के बाद ही अधिक दुख और पतन की बारी आ
अधिक हर्ष और अधिक उन्नति के बाद ही अधिक दुख और पतन की बारी आ
पूर्वार्थ
2696.*पूर्णिका*
2696.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोहा छन्द
दोहा छन्द
नाथ सोनांचली
कातिल
कातिल
Dr. Kishan tandon kranti
अपना ख्याल रखियें
अपना ख्याल रखियें
Dr Shweta sood
पलक झपकते हो गया, निष्ठुर  मौन  प्रभात ।
पलक झपकते हो गया, निष्ठुर मौन प्रभात ।
sushil sarna
Nowadays doing nothing is doing everything.
Nowadays doing nothing is doing everything.
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
!! एक ख्याल !!
!! एक ख्याल !!
Swara Kumari arya
गुरु और गुरू में अंतर
गुरु और गुरू में अंतर
Subhash Singhai
बीती एक और होली, व्हिस्की ब्रैंडी रम वोदका रंग ख़ूब चढे़--
बीती एक और होली, व्हिस्की ब्रैंडी रम वोदका रंग ख़ूब चढे़--
Shreedhar
दोस्त ना रहा ...
दोस्त ना रहा ...
Abasaheb Sarjerao Mhaske
*चॉंदी के बर्तन सदा, सुख के है भंडार (कुंडलिया)*
*चॉंदी के बर्तन सदा, सुख के है भंडार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दिल तोड़ना ,
दिल तोड़ना ,
Buddha Prakash
मउगी चला देले कुछउ उठा के
मउगी चला देले कुछउ उठा के
आकाश महेशपुरी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
SURYA PRAKASH SHARMA
हाथों की लकीरों तक
हाथों की लकीरों तक
Dr fauzia Naseem shad
पुलवामा वीरों को नमन
पुलवामा वीरों को नमन
Satish Srijan
खवाब
खवाब
Swami Ganganiya
Loading...