Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Sep 2022 · 1 min read

एक शे’र

जब पूछता है कोई बेवफ़ा का मतलब ।
तो उसकी तस्वीर दिखा देता हूँ मैं ।।

©डॉक्टर वासिफ़ काज़ी , इंदौर

Language: Hindi
Tag: शेर
2 Likes · 150 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चिला रोटी
चिला रोटी
Lakhan Yadav
ठोकर भी बहुत जरूरी है
ठोकर भी बहुत जरूरी है
Anil Mishra Prahari
स्वर्गीय लक्ष्मी नारायण पांडेय निर्झर की पुस्तक 'सुरसरि गंगे
स्वर्गीय लक्ष्मी नारायण पांडेय निर्झर की पुस्तक 'सुरसरि गंगे
Ravi Prakash
विधवा
विधवा
Acharya Rama Nand Mandal
दोस्ती...
दोस्ती...
Srishty Bansal
ज्योति मौर्या बनाम आलोक मौर्या प्रकरण…
ज्योति मौर्या बनाम आलोक मौर्या प्रकरण…
Anand Kumar
उसने क़ीमत वसूल कर डाली
उसने क़ीमत वसूल कर डाली
Dr fauzia Naseem shad
दिल ने दिल को दे दिया, उल्फ़त का पैग़ाम ।
दिल ने दिल को दे दिया, उल्फ़त का पैग़ाम ।
sushil sarna
किस्मत
किस्मत
Neeraj Agarwal
!...............!
!...............!
शेखर सिंह
लम्बा पर सकडा़ सपाट पुल
लम्बा पर सकडा़ सपाट पुल
Seema gupta,Alwar
🌼एकांत🌼
🌼एकांत🌼
ruby kumari
"कारवाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
भ्रष्ट होने का कोई तय अथवा आब्जेक्टिव पैमाना नहीं है। एक नास
भ्रष्ट होने का कोई तय अथवा आब्जेक्टिव पैमाना नहीं है। एक नास
Dr MusafiR BaithA
खोल नैन द्वार माँ।
खोल नैन द्वार माँ।
लक्ष्मी सिंह
काव्य की आत्मा और रीति +रमेशराज
काव्य की आत्मा और रीति +रमेशराज
कवि रमेशराज
रिश्ते..
रिश्ते..
हिमांशु Kulshrestha
अभी और कभी
अभी और कभी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
#सामयिक_व्यंग्य...
#सामयिक_व्यंग्य...
*Author प्रणय प्रभात*
फूलों की ख़ुशबू ही,
फूलों की ख़ुशबू ही,
Vishal babu (vishu)
ख़याल
ख़याल
नन्दलाल सुथार "राही"
"विचित्रे खलु संसारे नास्ति किञ्चिन्निरर्थकम् ।
Mukul Koushik
2967.*पूर्णिका*
2967.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोय चिड़कली
दोय चिड़कली
Rajdeep Singh Inda
संविधान का पालन
संविधान का पालन
विजय कुमार अग्रवाल
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
‘’ हमनें जो सरताज चुने है ,
‘’ हमनें जो सरताज चुने है ,
Vivek Mishra
भूत प्रेत का भय भ्रम
भूत प्रेत का भय भ्रम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बापू गाँधी
बापू गाँधी
Kavita Chouhan
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
Loading...