Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Nov 2023 · 1 min read

एक शख्स

#दिनांक:- 15/11/2023
#शीर्षक:-एक शख्स।

उम्र नाउम्मीद सी बढ़ती जा रही
वक्त लम्हा-लम्हा गुजरता जा रहा,
सोचती हूँ जब मोहब्बत के बारे में,
सारा जहां इश्क में डूबता जा रहा ।
बेखबर बेचैन सी बेचैनियां हैं ना जाने क्यूँ?
मोड़ तो बहुत हैं पर, एक ही राह राही चला जा रहा ।
रातें बेतरतीब-सी, तो शाम अस्त-व्यस्त ,
प्रेमिल गमों मे दिवालिया,
पर प्रेम है कि अपने में मस्त हुआ जा रहा।
जिन्दादिल पर जिन्दादिली खतम पड़ी सी,
फिर भी जिन्दगी जीवन जिये जा रहा।

एक शख्स,
बस एक शक्स मेरा ना हुआ,
वैसे तो सारी दुनिया मेरा दिवाना हुआ जा रहा।
किसी को पता नहीं हाल क्या है दूसरे का,
पर हर दिल, दर्द में भी बेहाल-सा हँसा जा रहा ।
बेकाबू जज्बात, बेकार बना दिये हालात,
हमेशा रास्ता मधुशाला का दिखाता जा रहा।
इश्क नशा सा चस्का लगता सभी को,
नशा भी, मदहोश नशा खुद होता जा रहा।
हम भी प्यार से बगावत करने चले थे कभी,
खाक कर सारा घमंड प्यार हँसता रहा।
सुकुन की तो बात ही निराली ,
जब जी चाहे आता-जाता रहा।
इस कदर तोड़ कर ख्याब किसी का,
कभी भी आकर हर किसी को सताता रहा।

(स्वरचित)
प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
2 Likes · 163 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
#शीर्षक- 55 वर्ष, बचपन का पंखा
#शीर्षक- 55 वर्ष, बचपन का पंखा
Anil chobisa
2823. *पूर्णिका*
2823. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
31 जुलाई और दो सितारे (प्रेमचन्द, रफ़ी पर विशेष)
31 जुलाई और दो सितारे (प्रेमचन्द, रफ़ी पर विशेष)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चम-चम चमके, गोरी गलिया, मिल खेले, सब सखियाँ
चम-चम चमके, गोरी गलिया, मिल खेले, सब सखियाँ
Er.Navaneet R Shandily
नजराना
नजराना
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
#संवाद (#नेपाली_लघुकथा)
#संवाद (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
चांद सी चंचल चेहरा 🙏
चांद सी चंचल चेहरा 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दुनियाँ के दस्तूर बदल गए हैं
दुनियाँ के दस्तूर बदल गए हैं
हिमांशु Kulshrestha
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
Three handfuls of rice
Three handfuls of rice
कार्तिक नितिन शर्मा
गुरुवर तोरे‌ चरणों में,
गुरुवर तोरे‌ चरणों में,
Kanchan Khanna
सादगी मुझमें हैं,,,,
सादगी मुझमें हैं,,,,
पूर्वार्थ
आपकी आत्मचेतना और आत्मविश्वास ही आपको सबसे अधिक प्रेरित करने
आपकी आत्मचेतना और आत्मविश्वास ही आपको सबसे अधिक प्रेरित करने
Neelam Sharma
*जनसमूह के मध्य साक्षात्कार-शैली की सफल प्रस्तुति के जन्मदात
*जनसमूह के मध्य साक्षात्कार-शैली की सफल प्रस्तुति के जन्मदात
Ravi Prakash
वक्त नहीं
वक्त नहीं
Vandna Thakur
पुश्तैनी मकान.....
पुश्तैनी मकान.....
Awadhesh Kumar Singh
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जो ये समझते हैं कि, बेटियां बोझ है कन्धे का
जो ये समझते हैं कि, बेटियां बोझ है कन्धे का
Sandeep Kumar
कितनी अजब गजब हैं ज़माने की हसरतें
कितनी अजब गजब हैं ज़माने की हसरतें
Dr. Alpana Suhasini
Migraine Treatment- A Holistic Approach
Migraine Treatment- A Holistic Approach
Shyam Sundar Subramanian
खुशनसीब
खुशनसीब
Bodhisatva kastooriya
दिल की भाषा
दिल की भाषा
Ram Krishan Rastogi
कभी बारिश में जो भींगी बहुत थी
कभी बारिश में जो भींगी बहुत थी
Shweta Soni
"कुछ रिश्ते"
Dr. Kishan tandon kranti
क्या है उसके संवादों का सार?
क्या है उसके संवादों का सार?
Manisha Manjari
---- विश्वगुरु ----
---- विश्वगुरु ----
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
💐अज्ञात के प्रति-89💐
💐अज्ञात के प्रति-89💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
#Dr Arun Kumar shastri
#Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आईना ही बता पाए
आईना ही बता पाए
goutam shaw
Loading...