Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2024 · 1 min read

एक लम्हा है ज़िन्दगी,

एक लम्हा है ज़िन्दगी,
यूँ ही नहीं चलती है!!

अपनी भी ख़ुशी होती है,
दूसरों की भी ख़ुशी होती है!!

39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शेर
शेर
Monika Verma
करगिल के वीर
करगिल के वीर
Shaily
एक अकेला रिश्ता
एक अकेला रिश्ता
विजय कुमार अग्रवाल
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
Dr Archana Gupta
मनीआर्डर से ज्याद...
मनीआर्डर से ज्याद...
Amulyaa Ratan
क्रोध
क्रोध
लक्ष्मी सिंह
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
माँ काली साक्षात
माँ काली साक्षात
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सौंदर्य मां वसुधा की🙏
सौंदर्य मां वसुधा की🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बस कुछ दिन और फिर हैप्पी न्यू ईयर और सेम टू यू का ऐसा तांडव
बस कुछ दिन और फिर हैप्पी न्यू ईयर और सेम टू यू का ऐसा तांडव
Ranjeet kumar patre
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
Dr. Man Mohan Krishna
2648.पूर्णिका
2648.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
क्यूँ भागती हैं औरतें
क्यूँ भागती हैं औरतें
Pratibha Pandey
त्यौहार
त्यौहार
Mukesh Kumar Sonkar
#नहीं_जानते_हों_तो
#नहीं_जानते_हों_तो
*प्रणय प्रभात*
ध्यान सारा लगा था सफर की तरफ़
ध्यान सारा लगा था सफर की तरफ़
अरशद रसूल बदायूंनी
कुछ सपने आंखों से समय के साथ छूट जाते हैं,
कुछ सपने आंखों से समय के साथ छूट जाते हैं,
manjula chauhan
🌹🌹🌹शुभ दिवाली🌹🌹🌹
🌹🌹🌹शुभ दिवाली🌹🌹🌹
umesh mehra
खाया रसगुल्ला बड़ा , एक जलेबा गर्म (हास्य कुंडलिया)
खाया रसगुल्ला बड़ा , एक जलेबा गर्म (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
हे मन
हे मन
goutam shaw
हर-सम्त देखा तो ख़ुद को बहुत अकेला पाया,
हर-सम्त देखा तो ख़ुद को बहुत अकेला पाया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"मैं तेरी शरण में आई हूँ"
Shashi kala vyas
फूल अब शबनम चाहते है।
फूल अब शबनम चाहते है।
Taj Mohammad
कथनी और करनी
कथनी और करनी
Davina Amar Thakral
*सावन में अब की बार
*सावन में अब की बार
Poonam Matia
हर प्रेम कहानी का यही अंत होता है,
हर प्रेम कहानी का यही अंत होता है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
नाथ शरण तुम राखिए,तुम ही प्राण आधार
नाथ शरण तुम राखिए,तुम ही प्राण आधार
कृष्णकांत गुर्जर
सच समझने में चूका तंत्र सारा
सच समझने में चूका तंत्र सारा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"" *सौगात* ""
सुनीलानंद महंत
धार्मिक नहीं इंसान बनों
धार्मिक नहीं इंसान बनों
Dr fauzia Naseem shad
Loading...