Oct 10, 2016 · 1 min read

एक रावण मरता सौ तैयार है…

आज के रावण को भी नहीं मिलता
वो राम है
जो दे रावण से मुक्ति,
आज के रावण का काम तमाम
रावण के ही हाथ है,
एक रावण मरता
सौ तैयार है,
राम राज्य तो बस सपना है
हर तरफ रावण राज है,
न मरता रावण
न मिलता वो राम है
इसलिए जिन्दा रावण राज है
उस रावण की भी कुछ मर्यादा थी
भगवान राम से ही उसकी मुक्ति थी,
आज रावण अमर्यादित ही नही
काफी गिरा है,
रावण के प्राण हरने को
सामने रावण ही खड़ा है,
एक रावण मरता है
सौ तैयार है,
राम राज्य तो बस सपना है
हर तरफ रावण राज है,
राम तू जाने कहाँ बसा है
शायद तू हमसे खफा है,
भुला दिया हमने तुझको राम
भूले तेरे महान काम,
कैसे आये राम राज्य
कैसे पैदा हो फिर राम
कैसे पैदा हो फिर राम।।

*****दिनेश शर्मा*****

445 Views
You may also like:
ग़ज़ल- कहां खो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तेरे रोने की आहट उसको भी सोने नहीं देती होगी
Krishan Singh
💐प्रेम की राह पर-34💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
💐प्रेम की राह पर-28💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
💐प्रेम की राह पर-25💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
रसिया यूक्रेन युद्ध विभीषिका
Ram Krishan Rastogi
Crumbling Wall
Manisha Manjari
खेसारी लाल बानी
Ranjeet Kumar
"राम-नाम का तेज"
Prabhudayal Raniwal
वो दिन भी बहुत खूबसूरत थे
Krishan Singh
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है
VINOD KUMAR CHAUHAN
एहसासों का समन्दर लिए बैठा हूं।
Taj Mohammad
ईद की दिली मुबारक बाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पृथ्वी दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
"हमारी यारी वही है पुरानी"
Dr. Alpa H.
** दर्द की दास्तान **
Dr. Alpa H.
समंदर की चेतावनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
विश्व पुस्तक दिवस (किताब)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गुरु तेग बहादुर जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सिया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ऊपज
Mahender Singh Hans
जिंदगी का मशवरा
Krishan Singh
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
अहसास
Vikas Sharma'Shivaaya'
नुमाइश बना दी तुने I
Dr.sima
सत्य छिपता नहीं...
मनोज कर्ण
Loading...