Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Oct 2016 · 1 min read

एक रावण मरता सौ तैयार है…

आज के रावण को भी नहीं मिलता
वो राम है
जो दे रावण से मुक्ति,
आज के रावण का काम तमाम
रावण के ही हाथ है,
एक रावण मरता
सौ तैयार है,
राम राज्य तो बस सपना है
हर तरफ रावण राज है,
न मरता रावण
न मिलता वो राम है
इसलिए जिन्दा रावण राज है
उस रावण की भी कुछ मर्यादा थी
भगवान राम से ही उसकी मुक्ति थी,
आज रावण अमर्यादित ही नही
काफी गिरा है,
रावण के प्राण हरने को
सामने रावण ही खड़ा है,
एक रावण मरता है
सौ तैयार है,
राम राज्य तो बस सपना है
हर तरफ रावण राज है,
राम तू जाने कहाँ बसा है
शायद तू हमसे खफा है,
भुला दिया हमने तुझको राम
भूले तेरे महान काम,
कैसे आये राम राज्य
कैसे पैदा हो फिर राम
कैसे पैदा हो फिर राम।।

*****दिनेश शर्मा*****

Language: Hindi
1 Like · 712 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Dr arun kumar shastri
Dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पेटी वाला बर्फ( बाल कविता)
पेटी वाला बर्फ( बाल कविता)
Ravi Prakash
याद रहे कि
याद रहे कि
*Author प्रणय प्रभात*
*कौन-सो रतन बनूँ*
*कौन-सो रतन बनूँ*
Poonam Matia
वेदना ऐसी मिल गई कि मन प्रदेश में हाहाकार मच गया,
वेदना ऐसी मिल गई कि मन प्रदेश में हाहाकार मच गया,
नव लेखिका
!! बच्चों की होली !!
!! बच्चों की होली !!
Chunnu Lal Gupta
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
मन के झरोखों में छिपा के रखा है,
मन के झरोखों में छिपा के रखा है,
अमित मिश्र
रेल दुर्घटना
रेल दुर्घटना
Shekhar Chandra Mitra
समूह
समूह
Neeraj Agarwal
जीवन की जर्जर कश्ती है,तुम दरिया हो पार लगाओ...
जीवन की जर्जर कश्ती है,तुम दरिया हो पार लगाओ...
दीपक झा रुद्रा
तुम अगर कविता बनो तो, गीत मैं बन जाऊंगा।
तुम अगर कविता बनो तो, गीत मैं बन जाऊंगा।
जगदीश शर्मा सहज
गीत
गीत
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
प्रेम और आदर
प्रेम और आदर
ओंकार मिश्र
अन्नदाता,तू परेशान क्यों है...?
अन्नदाता,तू परेशान क्यों है...?
मनोज कर्ण
भीड़ ने भीड़ से पूछा कि यह भीड़ क्यों लगी है? तो भीड़ ने भीड
भीड़ ने भीड़ से पूछा कि यह भीड़ क्यों लगी है? तो भीड़ ने भीड
जय लगन कुमार हैप्पी
सागर-मंथन की तरह, मथो स्वयं को रोज
सागर-मंथन की तरह, मथो स्वयं को रोज
डॉ.सीमा अग्रवाल
2546.पूर्णिका
2546.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
लालच
लालच
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मकड़ी ने जाला बुना, उसमें फँसे शिकार
मकड़ी ने जाला बुना, उसमें फँसे शिकार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
Dr. Kishan Karigar
खिन्न हृदय
खिन्न हृदय
Dr.Pratibha Prakash
पाप का जब भरता है घड़ा
पाप का जब भरता है घड़ा
Paras Nath Jha
पोथी- पुस्तक
पोथी- पुस्तक
Dr Nisha nandini Bhartiya
मंजिल के राही
मंजिल के राही
Rahul yadav
बेटा
बेटा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हम बिहार छी।
हम बिहार छी।
Acharya Rama Nand Mandal
आदमी तनहा दिखाई दे
आदमी तनहा दिखाई दे
Dr. Sunita Singh
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जानते हैं जो सबके बारें में
जानते हैं जो सबके बारें में
Dr fauzia Naseem shad
Loading...