Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Aug 2023 · 1 min read

एक मैं हूँ, जो प्रेम-वियोग में टूट चुका हूँ 💔

एक मैं हूँ, जो प्रेम-वियोग में टूट चुका हूँ
एक वो हैं, जो मुझे टूटने नहीं देता
एक मैं हूँ, जो काटा-सा लगता हूँ सबको
एक वो हैं, जो मुझे ह्रदय से लगा लेता
एक मैं हूँ, जो अर्जुन-सा भटक गया हूँ
एक वो हैं, जो मुझे सारथी सा रास्ता दिखा रहा
एक मैं हूँ, जो कोरी कल्पनाओं को जीता हूँ
एक वो हैं, जो मुझे वास्तविकता से परिचय करा रहा
एक मैं हूँ, जो जीवन त्यागने के लिए तत्पर हूँ
एक वो हैं, जो जीवन बचा रहा !

The_dk_poetry

2 Likes · 197 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भोला-भाला गुड्डा
भोला-भाला गुड्डा
Kanchan Khanna
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*आओ चुपके से प्रभो, दो ऐसी सौगात (कुंडलिया)*
*आओ चुपके से प्रभो, दो ऐसी सौगात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिंदगी का सबूत
जिंदगी का सबूत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
फितरत
फितरत
Srishty Bansal
धाराओं में वक़्त की, वक़्त भी बहता जाएगा।
धाराओं में वक़्त की, वक़्त भी बहता जाएगा।
Manisha Manjari
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
Chunnu Lal Gupta
शोर जब-जब उठा इस हृदय में प्रिये !
शोर जब-जब उठा इस हृदय में प्रिये !
Arvind trivedi
" मिलन की चाह "
DrLakshman Jha Parimal
बज्जिका के पहिला कवि ताले राम
बज्जिका के पहिला कवि ताले राम
Udaya Narayan Singh
एहसास दे मुझे
एहसास दे मुझे
Dr fauzia Naseem shad
#आज_का_मुक्तक
#आज_का_मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
मुझको कुर्सी तक पहुंचा दे
मुझको कुर्सी तक पहुंचा दे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कुछ अलग लिखते हैं। ।।।
कुछ अलग लिखते हैं। ।।।
Tarang Shukla
*****नियति*****
*****नियति*****
Kavita Chouhan
भुक्त - भोगी
भुक्त - भोगी
Ramswaroop Dinkar
130 किताबें महिलाओं के नाम
130 किताबें महिलाओं के नाम
अरशद रसूल बदायूंनी
"कठपुतली"
Dr. Kishan tandon kranti
राममय जगत
राममय जगत
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
मैं भी क्यों रखूं मतलब उनसे
मैं भी क्यों रखूं मतलब उनसे
gurudeenverma198
पढ़ाई -लिखाई एक स्त्री के जीवन का वह श्रृंगार है,
पढ़ाई -लिखाई एक स्त्री के जीवन का वह श्रृंगार है,
Aarti sirsat
Life is too short to admire,
Life is too short to admire,
Sakshi Tripathi
मध्यम वर्गीय परिवार ( किसान)
मध्यम वर्गीय परिवार ( किसान)
Nishant prakhar
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
***** सिंदूरी - किरदार ****
***** सिंदूरी - किरदार ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
🌺 Prodigy Love-22🌹
🌺 Prodigy Love-22🌹
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
धूप निकले तो मुसाफिर को छांव की जरूरत होती है
धूप निकले तो मुसाफिर को छांव की जरूरत होती है
कवि दीपक बवेजा
मनहरण घनाक्षरी
मनहरण घनाक्षरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सोचता हूँ
सोचता हूँ
Satish Srijan
Loading...