Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Apr 2024 · 1 min read

एक मुट्ठी राख

दर-दर की धूल न फांक
रे मूरख
पग-पग की धूल न फांक…
(१)
किसे मंदिर-मस्जिद में ढूंढे
किसे पंडित-मुल्ला से पूछे
ज़रा मन के भीतर झांक
रे मूरख
जरा दिल के अंदर झांक….
(२)
काहे बना फिरता हरजायी
तेरे जीवन भर की कमाई
केवल एक मुट्ठी राख
रे मूरख
केवल एक मुट्ठी ख़ाक…
(३)
युग-युग से समझावत हारा
अब क्या करे कबीरा बेचारा
कोई न सुने बात
रे मुरख
कोई न समझे बात…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#Nirgun #Kabir #फलसफा
#जीवन_मृत्यु #दार्शनिक_गीत
#निर्गुन #निर्गुण_गीत #कबीर
#नसीहत #उपदेश #मृग_तृष्णा

52 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
समय
समय
Paras Nath Jha
रेत और जीवन एक समान हैं
रेत और जीवन एक समान हैं
राजेंद्र तिवारी
बदी करने वाले भी
बदी करने वाले भी
Satish Srijan
लोगों का मुहं बंद करवाने से अच्छा है
लोगों का मुहं बंद करवाने से अच्छा है
Yuvraj Singh
एक सलाह, नेक सलाह
एक सलाह, नेक सलाह
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
प्रतिशोध
प्रतिशोध
Shyam Sundar Subramanian
भारत का सिपाही
भारत का सिपाही
Rajesh
दिल में मेरे
दिल में मेरे
हिमांशु Kulshrestha
मैनें प्रत्येक प्रकार का हर दर्द सहा,
मैनें प्रत्येक प्रकार का हर दर्द सहा,
Aarti sirsat
मां से ही तो सीखा है।
मां से ही तो सीखा है।
SATPAL CHAUHAN
व्यक्तित्व और व्यवहार हमारी धरोहर
व्यक्तित्व और व्यवहार हमारी धरोहर
Lokesh Sharma
"चाँद-तारे"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
भ्रातत्व
भ्रातत्व
Dinesh Kumar Gangwar
विषय--विजयी विश्व तिरंगा
विषय--विजयी विश्व तिरंगा
रेखा कापसे
कोहरा काला घना छट जाएगा।
कोहरा काला घना छट जाएगा।
Neelam Sharma
गमले में पेंड़
गमले में पेंड़
Mohan Pandey
असमान शिक्षा केंद्र
असमान शिक्षा केंद्र
Sanjay ' शून्य'
2554.पूर्णिका
2554.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तुम नफरत करो
तुम नफरत करो
Harminder Kaur
■ खरी-खरी...
■ खरी-खरी...
*प्रणय प्रभात*
भले ही भारतीय मानवता पार्टी हमने बनाया है और इसका संस्थापक स
भले ही भारतीय मानवता पार्टी हमने बनाया है और इसका संस्थापक स
Dr. Man Mohan Krishna
"समय का महत्व"
Yogendra Chaturwedi
*मर्यादा पुरूषोत्तम राम*
*मर्यादा पुरूषोत्तम राम*
Shashi kala vyas
जग की आद्या शक्ति हे ,माता तुम्हें प्रणाम( कुंडलिया )
जग की आद्या शक्ति हे ,माता तुम्हें प्रणाम( कुंडलिया )
Ravi Prakash
🌸अनसुनी 🌸
🌸अनसुनी 🌸
Mahima shukla
हिंदी दिवस - विषय - दवा
हिंदी दिवस - विषय - दवा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सोशल मीडिया पर हिसाबी और असंवेदनशील लोग
सोशल मीडिया पर हिसाबी और असंवेदनशील लोग
Dr MusafiR BaithA
दूर हो गया था मैं मतलब की हर एक सै से
दूर हो गया था मैं मतलब की हर एक सै से
कवि दीपक बवेजा
परछाई (कविता)
परछाई (कविता)
Indu Singh
Loading...