Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Feb 2024 · 1 min read

एक महिला अपनी उतनी ही बात को आपसे छिपाकर रखती है जितनी की वह

एक महिला अपनी उतनी ही बात को आपसे छिपाकर रखती है जितनी की वह समझती है कि यह कहने पर हम दोनों के आपसी रिश्तों में दरार नहीं पड़ेगी।
RJ Anand Prajapati

49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तोता और इंसान
तोता और इंसान
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
क्यों इस तरहां अब हमें देखते हो
क्यों इस तरहां अब हमें देखते हो
gurudeenverma198
आकाश से आगे
आकाश से आगे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
#लघु कविता
#लघु कविता
*Author प्रणय प्रभात*
स्वयं अपने चित्रकार बनो
स्वयं अपने चित्रकार बनो
Ritu Asooja
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उम्मीद
उम्मीद
Paras Nath Jha
जैसे को तैसा
जैसे को तैसा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पहले क्या करना हमें,
पहले क्या करना हमें,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मां सिद्धिदात्री
मां सिद्धिदात्री
Mukesh Kumar Sonkar
अफवाह आजकल फॉरवर्ड होती है(हास्य व्यंग्य)*
अफवाह आजकल फॉरवर्ड होती है(हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
12) “पृथ्वी का सम्मान”
12) “पृथ्वी का सम्मान”
Sapna Arora
लोभी चाटे पापी के गाँ... कहावत / DR. MUSAFIR BAITHA
लोभी चाटे पापी के गाँ... कहावत / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Mohabbat
Mohabbat
AMBAR KUMAR
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
सत्य कुमार प्रेमी
पृथ्वी की दरारें
पृथ्वी की दरारें
Santosh Shrivastava
दिल के जख्म
दिल के जख्म
Gurdeep Saggu
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कुछ लड़कों का दिल, सच में टूट जाता हैं!
कुछ लड़कों का दिल, सच में टूट जाता हैं!
The_dk_poetry
💐प्रेम कौतुक-248💐
💐प्रेम कौतुक-248💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"संकल्प"
Dr. Kishan tandon kranti
कितने एहसास हैं
कितने एहसास हैं
Dr fauzia Naseem shad
इधर उधर न देख तू
इधर उधर न देख तू
Shivkumar Bilagrami
अंतहीन प्रश्न
अंतहीन प्रश्न
Shyam Sundar Subramanian
रिश्तों की गहराई लिख - संदीप ठाकुर
रिश्तों की गहराई लिख - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
"दर्पण बोलता है"
Ekta chitrangini
फितरत
फितरत
kavita verma
प्यार खुद में है, बाहर ढूंढ़ने की जरुरत नही
प्यार खुद में है, बाहर ढूंढ़ने की जरुरत नही
Sunita jauhari
दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्
दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्
Radhakishan R. Mundhra
ये मानसिकता हा गलत आये के मोर ददा बबा मन‌ साग भाजी बेचत रहिन
ये मानसिकता हा गलत आये के मोर ददा बबा मन‌ साग भाजी बेचत रहिन
PK Pappu Patel
Loading...