Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Mar 2024 · 1 min read

एक बार नहीं, हर बार मैं

एक बार नहीं, हर बार मैं, उनसे हुआ हूँ बेइज्जत बेघर।
भटका हूँ मदद को मैं दर-दर, लेकिन नहीं ली मेरी खबर।।
एक बार नहीं, हर बार मैं——————–।।

यह भी मैंने नहीं कहा था, उन्होंने ही मना किया था।
मुझमें अगर है कुछ शर्म, रखूँ नहीं कदम उनकी दर।।
एक बार नहीं, हर बार मैं——————-।।

मुझको दिया होता गर पैसा, तो ऐसा नहीं मैं कहता।
रुलाकर दी है मुझको मदद, नहीं दिया मुझे प्यार मगर।।
एक बार नहीं, हर बार मैं——————-।।

देखी नहीं कभी मैंने खुशी, जब भी गया उनसे मिलने।
कैसे कहूँ मैं उनको अपना, करते हैं व्यवहार गैर कहकर।।
एक बार नहीं, हर बार मैं——————।।

बदनाम नहीं अब होना है, नहीं सहना किसी का अब जुल्म।
नहीं खुशियां मुझे बर्बाद करनी, जीना है अब निडर बनकर।।
एक बार नहीं, हर बार मैं——————।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ़ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
77 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3069.*पूर्णिका*
3069.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक महिला की उमर और उसकी प्रजनन दर उसके शारीरिक बनावट से साफ
एक महिला की उमर और उसकी प्रजनन दर उसके शारीरिक बनावट से साफ
Rj Anand Prajapati
काश यह मन एक अबाबील होता
काश यह मन एक अबाबील होता
Atul "Krishn"
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
Shweta Soni
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
नेताम आर सी
ना मंजिल की कमी होती है और ना जिन्दगी छोटी होती है
ना मंजिल की कमी होती है और ना जिन्दगी छोटी होती है
शेखर सिंह
आउट करें, गेट आउट करें
आउट करें, गेट आउट करें
Dr MusafiR BaithA
ज़िंदादिली
ज़िंदादिली
Dr.S.P. Gautam
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
gurudeenverma198
जब  सारे  दरवाजे  बंद  हो  जाते  है....
जब सारे दरवाजे बंद हो जाते है....
shabina. Naaz
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
शिव सबके आराध्य हैं, रावण हो या राम।
शिव सबके आराध्य हैं, रावण हो या राम।
Sanjay ' शून्य'
कविता तुम से
कविता तुम से
Awadhesh Singh
कर्म
कर्म
इंजी. संजय श्रीवास्तव
*कोई मंत्री बन गया, छिना किसी से ताज (कुंडलिया)*
*कोई मंत्री बन गया, छिना किसी से ताज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
चांद को तो गुरूर होगा ही
चांद को तो गुरूर होगा ही
Manoj Mahato
सियासत नहीं रही अब शरीफों का काम ।
सियासत नहीं रही अब शरीफों का काम ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
बंधन
बंधन
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
बंशी बजाये मोहना
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
अनोखा दौर
अनोखा दौर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
रहब यदि  संग मे हमर ,सफल हम शीघ्र भ जायब !
रहब यदि संग मे हमर ,सफल हम शीघ्र भ जायब !
DrLakshman Jha Parimal
मन में क्यों भरा रहे घमंड
मन में क्यों भरा रहे घमंड
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
--बेजुबान का दर्द --
--बेजुबान का दर्द --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मंत्र: पिडजप्रवरारूढा, चंडकोपास्त्रकैर्युता।
मंत्र: पिडजप्रवरारूढा, चंडकोपास्त्रकैर्युता।
Harminder Kaur
रुत चुनाव की आई 🙏
रुत चुनाव की आई 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"दहलीज"
Ekta chitrangini
उम्र अपना
उम्र अपना
Dr fauzia Naseem shad
बड़े इत्मीनान से सो रहे हो,
बड़े इत्मीनान से सो रहे हो,
Buddha Prakash
"वेदना"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...