Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Apr 2023 · 1 min read

एक पत्नी अपने पति को तन मन धन बड़ी सहजता से सौंप देती है देत

एक पत्नी अपने पति को तन मन धन बड़ी सहजता से सौंप देती है देती है
पर पति अपनी पत्नी को जितनी सहजता से अपने तन
को सौंप सकता है उतनी सहजता से मन और धन को कभी नहीं सौंपता ।

588 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बढ़ी हैं दूरियां दिल की भले हम पास बैठे हैं।
बढ़ी हैं दूरियां दिल की भले हम पास बैठे हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कश्मकश
कश्मकश
swati katiyar
Jese Doosro ko khushi dene se khushiya milti hai
Jese Doosro ko khushi dene se khushiya milti hai
shabina. Naaz
फूक मार कर आग जलाते है,
फूक मार कर आग जलाते है,
Buddha Prakash
कविता की महत्ता।
कविता की महत्ता।
Rj Anand Prajapati
व्यक्तित्व की दुर्बलता
व्यक्तित्व की दुर्बलता
Dr fauzia Naseem shad
3369⚘ *पूर्णिका* ⚘
3369⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
गुमनाम 'बाबा'
गर्दिश में सितारा
गर्दिश में सितारा
Shekhar Chandra Mitra
मेरी हर कविता में सिर्फ तुम्हरा ही जिक्र है,
मेरी हर कविता में सिर्फ तुम्हरा ही जिक्र है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
आज दिवाकर शान से,
आज दिवाकर शान से,
sushil sarna
स्वागत है नवजात भतीजे
स्वागत है नवजात भतीजे
Pooja srijan
कहानी इश्क़ की
कहानी इश्क़ की
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मैं तुलसी तेरे आँगन की
मैं तुलसी तेरे आँगन की
Shashi kala vyas
घर
घर
Dheerja Sharma
जिंदगी
जिंदगी
अखिलेश 'अखिल'
गजल
गजल
Anil Mishra Prahari
ये ज़िंदगी भी गरीबों को सताती है,
ये ज़िंदगी भी गरीबों को सताती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
२०२३
२०२३
Neelam Sharma
विषय - पर्यावरण
विषय - पर्यावरण
Neeraj Agarwal
दिखाने लगे
दिखाने लगे
surenderpal vaidya
"द्रोह और विद्रोह"
*Author प्रणय प्रभात*
एक कुंडलिया
एक कुंडलिया
SHAMA PARVEEN
संवेदना -जीवन का क्रम
संवेदना -जीवन का क्रम
Rekha Drolia
छुट्टी का इतवार( बाल कविता )
छुट्टी का इतवार( बाल कविता )
Ravi Prakash
चुना था हमने जिसे देश के विकास खातिर
चुना था हमने जिसे देश के विकास खातिर
Manoj Mahato
ज़िंदगी चाँद सा नहीं करना
ज़िंदगी चाँद सा नहीं करना
Shweta Soni
प्रेम उतना ही करो जिसमे हृदय खुश रहे
प्रेम उतना ही करो जिसमे हृदय खुश रहे
पूर्वार्थ
बदल जाएगा तू इस हद तलक़ मैंने न सोचा था
बदल जाएगा तू इस हद तलक़ मैंने न सोचा था
Johnny Ahmed 'क़ैस'
Loading...