Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2024 · 1 min read

एक नासूर हो ही रहा दूसरा ज़ख्म फिर खा लिया।

एक नासूर हो ही रहा दूसरा ज़ख्म फिर खा लिया।
ये क्या हो गया मुझे, मैंने ये कैसा हाल बना लिया।

1 Like · 60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुराद
मुराद
Mamta Singh Devaa
ख़ुद ब ख़ुद
ख़ुद ब ख़ुद
Dr. Rajeev Jain
बचपन
बचपन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
दिवाकर उग गया देखो,नवल आकाश है हिंदी।
दिवाकर उग गया देखो,नवल आकाश है हिंदी।
Neelam Sharma
प्रेम की राह।
प्रेम की राह।
लक्ष्मी सिंह
मुख पर जिसके खिला रहता शाम-ओ-सहर बस्सुम,
मुख पर जिसके खिला रहता शाम-ओ-सहर बस्सुम,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
डॉ. दीपक मेवाती
3183.*पूर्णिका*
3183.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संदेश
संदेश
Shyam Sundar Subramanian
क्या बोलूं
क्या बोलूं
Dr.Priya Soni Khare
प्यार की चंद पन्नों की किताब में
प्यार की चंद पन्नों की किताब में
Mangilal 713
-- कटते पेड़ --
-- कटते पेड़ --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
दौर ऐसा हैं
दौर ऐसा हैं
SHAMA PARVEEN
*यारा तुझमें रब दिखता है *
*यारा तुझमें रब दिखता है *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अंगड़ाई
अंगड़ाई
भरत कुमार सोलंकी
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
।।
।।
*प्रणय प्रभात*
क्या कहें
क्या कहें
Dr fauzia Naseem shad
बढ़ना होगा
बढ़ना होगा
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
वसंत - फाग का राग है
वसंत - फाग का राग है
Atul "Krishn"
अच्छा लगने लगा है उसे
अच्छा लगने लगा है उसे
Vijay Nayak
"तरीका"
Dr. Kishan tandon kranti
भजन- सपने में श्याम मेरे आया है
भजन- सपने में श्याम मेरे आया है
अरविंद भारद्वाज
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
यह कैसी खामोशी है
यह कैसी खामोशी है
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
*महाराजा अग्रसेन और महात्मा गॉंधी (नौ दोहे)*
*महाराजा अग्रसेन और महात्मा गॉंधी (नौ दोहे)*
Ravi Prakash
पेड़ों की छाया और बुजुर्गों का साया
पेड़ों की छाया और बुजुर्गों का साया
VINOD CHAUHAN
बदलाव की ओर
बदलाव की ओर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हमारा गुनाह सिर्फ यही है
हमारा गुनाह सिर्फ यही है
gurudeenverma198
आँखें
आँखें
Neeraj Agarwal
Loading...